बेटे की डेडबॉडी पाने के लिए जगजीत सिंह को रिश्वत देनी पड़ी, महेश भट ने किया खुलासा

जगजीत सिंह  : 1990 में एक कार एक्सीडेंट के दौरान प्रसिद्ध गायक जगजीत सिंह ने अपने बेटे को खो दिया था। ये दुर्घटना वो अपनी जिंदगी के अंतिम वक्त तक नहीं भूल पाए. हाल ही में, अनुपम खेर की डेब्यू फिल्म सारांश के 40 साल पूरे होने की खुशी में एक इवेंट रखा गया। इस इवेंट में पहुंचे महेश भट्ट ने जगजीत सिंह से जुड़ा वो किस्सा शेयर किया जिसे सुनकर आपकी आंखें भर आएंगी। जगजीत सिंह की पॉपुलैरिटी का अंदाजा लगा पाना आपके और हमारे लिए नामुमकिन है। एक वक्त था जब घर-घर में उनके गाने बजने के साथ ही दिन की शुरुआत होती थी। आज भले ही वो हमारे बीच नहीं रहे लेकिन अपनी आवाज से वो लोगों के जहन में जिंदा हैं। आपने उनकी पॉपुलैरिटी के किस्से तो खूब सुने होंगे लेकिन पर्सनल जिंदगी से जुड़ी कोई भी कहानी आपको शायद ही पता हो। हाल ही में महेश भट्ट से उनसे जुड़ा एक ऐसा किस्सा बयां किया जो शायद आपके रौंगटे खड़े कर देगा।

JAGJIT SINGH

कैसे मिली जगजीत सिंह के बेटे की डेडबॉडी ?

जगजीत सिंह  : हाल ही में, एक इंटरव्यू में महेश भट्ट ने कहा, “जब जगजीत सिंह के बेटे की एक एक्सीडेंट में मौत हो गई, तो उन्होंने मुझे बताया कि उन्हें अपने बेटे का शव लेने के लिए जूनियर अधिकारियों को रिश्वत देनी पड़ी और तभी उन्हें ‘सारांश’ के महत्व का एहसास हुआ।

JAGJIT SINGH

 

कार एक्सीडेंट में जगजीत सिंह ने बेटे को खो दिया था

जगजीत सिंह और चित्रा सिंह के एकलौते बेटे विवेक का 1990 में लंदन में हुए एक कार एक्सीडेंट में निधन हो गया था। वो सिर्फ 20 साल के थे। इस ट्रेजेडी के बाद जहां जगजीत ने सिंगिंग से ब्रेक ले लिया था, उनकी मौत के बाद, जगजीत की पत्नी चित्रा सिंह, जो एक फेमस सिंगर थीं, उन्होंने गाना बंद कर दिया था। इनकी एक बेटी भी थी, जिसकी 2009 में मौत हो गई थी | बात करें फिल्म सारांश की तो इसमें अनुपम खेर के साथ-साथ रोहिणी हट्टंगड़ी, महेश भट्ट की पत्नी सोनी राजदान समेत कई कलाकारों ने काम किया था। वहीं, जगजीत सिंह का निधन अक्टूबर 2011 में ब्रेन हैमरेज की वजह से हुआ था।

SAARANSH

 

अनुपम खेर की पहली फिल्म ‘सारांश’ 40 साल पूरे

अनुपम खेर की पहली फिल्म ‘सारांश’ को 40 साल पूरे हो गए हैं। महेश भट्ट द्वारा निर्देशित यह फिल्म 2 फरवरी 1984 को रिलीज हुई थी। बात करें फिल्म सारांश की तो इसमें अनुपम खेर के साथ-साथ रोहिणी हट्टंगड़ी, महेश भट्ट की पत्नी सोनी राजदान समेत कई कलाकारों ने काम किया था। यह फिल्म मुंबई में रहने वाले एक बुजुर्ग जोड़े की कहानी के इर्द-गिर्द घूमती है, जो अपने इकलौते बेटे की मौत से उबरने की कोशिश करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 + five =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।