लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

जब रामानंद सागर की स्क्रिप्ट सुन इस एक्टर ने ठुकरा दी फिल्म, फिर धर्मेंद्र ने रोल कर किया धमाल

साल 1968 में फिल्म ‘आंखें’ आई जिसमें धर्मेंद्र लीड एक्टर थे और ये फिल्म सुपरहिट साबित हुई पहले फिल्म ये  किसी  दूसरे स्टार को ऑफर हुई थी जिसने इस फिल्म को ठुकरा दिया। रामानंद सागर ने इस फिल्म को किसी और एक्टर को लेकर बनाने की सोची थी लेकिन इसे धर्मेंद्र ने पूरा किया।

  • साल 1968 में फिल्म ‘आंखें’ आई जिसमें धर्मेंद्र लीड एक्टर थे।
  • रामानंद सागर ने इस फिल्म को किसी और एक्टर को लेकर बनाने की सोची थी।

फिल्म के लीड एक्टर के लिए कोई और थी पहली पसंद

आपने अक्सर सुना होगा कि कोई फिल्म सुपरहिट हो गई, लेकिन उसमें काम करने वाले एक्टर मेकर्स की पहली पसंद नहीं थे. ऐसा कई बार सुनने को मिला है कि मेकर्स उस फिल्म को किसी और को मन में लेकर फिल्म बनाने की सोचते हैं लेकिन जब वो एक्टर मना करता है तो दूसरे एक्टर को वो फिल्म ऑफर की जाती है। ऐसा ही कुछ लगभग 56 साल पहले आई फिल्म आंखें को लेकर भी हुआ था।

thharamathara 1705758457 ramandsagar 26

dharmendra unnamed 1

अगर इस एक्टर ने की होती हां तो आंखेंमें ना होते धर्मेंद्र

ये किस्सा है साल 1967 के आस-पास का जब रामानंद सागर उस दौर के बेहतरीन कलाकार राज कुमार के घर अपनी फिल्म आंखें की स्क्रिप्ट लेकर गए थे। रामानंद सागर से स्क्रिप्ट सुनने के बाद राज कपूर ने अपने घर के पालतू डॉग को बुलाया और उससे पूछा, ‘क्या तुम ये फिल्म करोगे?’ रिपोर्ट्स के मुताबिक, जैसे ही राज कपूर ने ऐसा उस डॉग के साथ किया तो वो इधर-उधर मुंह करने लगा। तब राज कुमार ने रामानंद सागर की तरफ देखते हुए कहा, ‘देखो…मेरा कुत्ता भी इस फिल्म को नहीं करना चाहता, तो मैं कैसे करूं?’

raaj kumar 647 070315021212 raaj kumar 1530601924

रामानंद को लगा इस बात का बुरा

बताया जाता है कि रामानंद सागर को ये बात बहुत बुरी और वो वहां से अपने घर चले आए, इसके बाद रामानंद सागर राज कुमार के साथ कभी काम नहीं किए। किसी ने रामानंद सागर को सुझाव दिया कि वो धर्मेंद्र से बात करें. उस दौर में धर्मेंद्र का नाम भी खूब सुर्खियों में रहा करता था, उन्होंने ये फिल्म की और साल 1968 में फिल्म आंखें रिलीज हुई. ये फिल्म धर्मेंद्र की सफल फिल्मों की लिस्ट में शामिल हो गई.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen + eleven =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।