गर्भगृह में आज स्थापित होगी रामलला की मूर्ति, जानें इसके रचनाकार योगीराज की कहानी

Ram Mandir Pran Pratishtha

Ram Mandir Pran Pratishtha : भगवान श्रीराम के बालरूप श्री रामलला के स्वागत के लिए अयोध्या दुल्हन की तरह सज के तैयार हो चुकी है। 22 जनवरी को राम मंदिर में होने वाली प्राण प्रतिष्ठा से पहले गुरुवार 18 जनवरी यानी की आज रामलला की मूर्ति को राम मंदिर के गर्भगृह में स्थापित कर दिया जाएगा। इससे पहले बुधवार 17 जनवरी को मूर्ति को विवेक सृष्टि ट्रस्ट से एक ट्रक की सहायता (Ram Mandir Pran Pratishtha) से अयोध्या में राम मंदिर तक लाया गया। परिसर के अंदर तक मूर्ति ले जाने के लिए एक क्रेन की मदद ली गई है।

Ram Mandir Pran Pratishtha
Ram Mandir Pran Pratishtha

मूर्ति को मंदिर के अंदर लाए जाने पर श्रद्धालुओं में भक्ति भावना की झलक दिखाई पड़ी और इसी के साथ लोगों में एक अलग तरह का उत्साह भी नज़र आया। एक न्यूज एजेंसी के मुताबिक, एक संत ने कहा कि अब राम राज्य फिर से वापस (Ram Mandir Pran Pratishtha)आएगा। आयोध्या के राम मंदिर में रामलला की जिस मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा होनी है उस मूर्ति को बारीकी से तराशने वाले कर्नाटक के मैसुरु के रहने वाले प्रसिद्ध मूर्तिकार अरुण योगीराज की डिल को छू लेने वाली और प्रेरणादायी (Ram Mandir Pran Pratishtha) कहानी भी अब सामने आई हैं।

अरुण योगीराज को काम के दौरान लगी चोट

Ram Mandir Pran Pratishtha
Ram Mandir Pran Pratishtha

आपको बता दें कि प्रसिद्ध मूर्तिकार अरुण योगीराज (Ram Mandir Pran Pratishtha) को मूर्ति का काम करने के दौरान चोट भी लग गई थी और इसके बाद उन्हें ऑपरेशन तक की स्थिति से भी गुजरना पड़ा था लेकिन ऐसे हालातों में भी उन्होनें हिम्मत नहीं हारी और दर्द में भी काम किया था। इस मूर्ति को एक दिव्य और आलौकिक झलक देने के लिए अरुण योगीराज ने ना दिन देखा और ना रात बल्कि लगातार इसके लिए अपना सब कुछ एक करके मेहनत में जुट गए।

Untitled Project 2024 01 18T151357.903

योगीराज के परिवार को जब से मंदिर ट्रस्ट की ओर से पता लगा है कि योगीराज की बनाई मूर्ति को राम मंदिर के गर्भग्रह में (Ram Mandir Pran Pratishtha) स्थापित किया जाएगा उनका परिवार खुशी से झूम उठा है। उनके परिवार की खुशी का फ़िलहाल कोई ठिकाना नहीं हैं। परिवार ने अपने रिएक्शन भी शेयर किए है और योगीराज को चोट लगने वाला किस्सा भी बताया हैं।

आंख में पत्थर चुभने के बावजूद लगातार किया अपना काम

Ram Mandir Pran Pratishtha
Ram Mandir Pran Pratishtha

एक न्यूज एजेंसी के मुताबिक, योगीराज की पत्नी विजेयता का कहा कि वह इस उपलब्धि से बेहद ही खुश हैं। विजेयता ने ये भी बताया कि, ”जब मूर्ति बनाने का काम योगीराज को दिया गया तो हमें पता चला कि इसके लिए उचित पत्थर मैसूरु (Ram Mandir Pran Pratishtha) के पास उपलब्ध है। हालांकि, वह पत्थर बहुत सख्त था। इसकी नुकीली परत उनकी आंख में भी चुभ गई और उसे ऑपरेशन के जरिए निकाला भी गया। दर्द के दौरान भी वह नहीं रुके और लागातर काम (Ram Mandir Pran Pratishtha) करते रहे। उनका काम इतना अच्छा था कि हर कोई उनसे प्रभावित हुआ। हम सभी को धन्यवाद देते हैं।”

Untitled Project 2024 01 18T150343.019
उन्होंने कहा, ”योगीराज कई रात सोए नहीं और रामलला की मूर्ति बनाने में मग्न रहे। ऐसे भी दिन थे जब हम मुश्किल (Ram Mandir Pran Pratishtha) से बात करते थे और वह परिवार को भी मुश्किल से समय दे पाते थे। अब ट्रस्ट की सूचना से सारी मेहनत की भरपाई हो गई है।”

योगीराज में पिता से आया ये हूनर

योगीराज के भाई सूर्यप्रकाश ने मूर्ति चुने जाने की खबर मिलने पर कहा था कि यह दिन परिवार (Ram Mandir Pran Pratishtha) के लिए बहुत यादगार है। उन्होंने कहा, ”योगीराज ने इतिहास रचा है और वह इसके हकदार थे। यह उनकी कड़ी मेहनत और समर्पण है जो उन्हें इतनी ऊंचाइयों तक ले गया।”

Untitled Project 2024 01 18T150259.582
सूर्यप्रकाश ने कहा कि योगीराज ने मूर्तिकला की बारीकियां अपने पिता से सीखीं है। वह बचपन से इसे लेकर काफी उत्सुक थे। योगीराज की माता सरस्वती ने कहा कि यह बहुत ही खुशी की बात है कि उनके बेटे द्वारा बनाई गई मूर्ति का चयन (Ram Mandir Pran Pratishtha) किया गया है। उन्होंने कहा, ”जब से हमें यह खबर मिली है कि अरुण द्वारा बनाई गई मूर्ति का चयन स्थापना के लिए हो गया हैं, हम बहुत खुश हैं। हमारा पूरा परिवार बहुत ज्यादा प्रसन्न है।”

भगवान राम की मूर्ति किस रूप में होगी

Untitled Project 2024 01 18T143937.961

मंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने सोमवार 15 जनवरी को अयोध्या में घोषणा (Ram Mandir Pran Pratishtha) की थी कि नई मूर्ति में भगवान राम को पांच साल के बालरूप में खड़ी मुद्रा में दिखाया गया है और कहा था कि इसे 18 जनवरी को ‘गर्भगृह’ में ‘आसन’ पर विराजमान कर दिया जाएगा।

Untitled Project 2024 01 18T150208.716
रामलला की मूर्ति चुने जाने पर योगीराज के पड़ोसी भी बहुत ज्यादा उत्साहित हैं। पड़ोसियों और कुछ नेताओं ने योगीराज के परिवार से मुलाकात भी की और उनके बेटे की तारीफ़ के रूप में सरस्वती को माला भेंट की। केदारनाथ में स्थापित (Ram Mandir Pran Pratishtha) आदि शंकराचार्य की मूर्ति और दिल्ली में इंडिया गेट के पास स्थापित की गई सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा भी अरुण योगीराज द्वारा ही बनाई गई हैं।

छह से सात महीने पहले शुरू किया काम

Arun Yogiraj With PM
Arun Yogiraj WIth PM

योगीराज ने रामलला की नई मूर्ति बनाते समय काम में आई चुनौतियों (Ram Mandir Pran Pratishtha) के बारे में कहा, ‘‘मूर्ति एक बच्चे की बनानी थी, जो दिव्य हो, क्योंकि यह भगवान के अवतार की मूर्ति है। जो भी कोई मूर्ति को देखें उसे दिव्यता का एहसास होना चाहिए।’’

Ram Mandir Pran Pratishtha
Ram Mandir Pran Pratishtha

प्रख्यात मूर्तिकार अरुण योगीराज ने ये भी कहा कि, ”बच्चे जैसे चेहरे के साथ-साथ दिव्य पहलू को ध्यान में रखते हुए मैंने लगभग छह से सात महीने पहले अपना काम शुरू कर दिया था। मूर्ति के चयन से ज्यादा मेरे लिए यह महत्वपूर्ण (Ram Mandir Pran Pratishtha) है कि ये लोगों को पसंद आनी चाहिए। सच्ची खुशी मुझे तब होगी जब लोग इसकी सराहना करेंगे।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × 4 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।