रूसी हमलों से दहल उठा यूक्रेन का ऊर्जा संयंत्र

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

88 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

58 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

रूसी हमलों से दहल उठा यूक्रेन का ऊर्जा संयंत्र

Ukraine power plant shaken

Ukraine Power Plant Shaken: रूस द्वारा मिसाइल और ड्रोन से किये गए भीषण हमलों में यूक्रेन के शीर्ष ऊर्जा संयंत्रों में से एक संयंत्र तबाह हो गया और साथ ही अन्य इमारतों को भी नुकसान पहुंचा है। अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।

Highlights:

  • रूसी हमलों में दहला उठा यक्रेन का ऊर्जा संयंत्र

     

  • ड्रोन से किये हमलों में यूक्रेन का ऊर्जा संयंत्र अस्त व्यस्त
  • संयंत्र के चारों ओर आग की लपटें उठ रही थीं

रूस ने फिर से ऊर्जा संयंत्रों को निशाना बनाने का अभियान शुरू किया

अधिकारियों ने बताया कि कीव, चर्कासी और जाइटॉमिर क्षेत्रों को बिजली की आपूर्ति करने वाले सबसे बड़े ऊर्जा संयंत्र ट्राइपिल्स्का को कई बार निशाना बनाया गया और इन हमलों में ट्रांसफार्मर और जनरेटर नष्ट हो गए और संयंत्र में आग लग गई।

Ukraine power plant shaken

संयंत्र के चारों ओर आग की लपटें उठ रही थीं

संयंत्र का संचालन करने वाली सरकारी कंपनी सेंटरनेर्गो के पर्यवेक्षी बोर्ड के अध्यक्ष एंड्री गोटा ने बताया कि जैसे ही संयंत्र पर पहले ड्रोन से हमला हुआ कर्मचारियों ने जान बचाने के लिए एक आश्रय स्थल में शरण ली। उन्होंने कहा कि संयंत्र के चारों ओर आग की लपटें उठ रही थीं और काले घने धुएं का गुबार छाया हुआ था। गोटा ने कहा कि यह भयावह था। इस हमले के घंटों बाद बचावकर्मी वहां पहुंचे और मलबा हटाने का काम शुरू किया।

Untitled 1 copy

‘यूक्रेन ने रूस की तेल रिफाइनरियों को निशाना बनाया’

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने मॉस्को में कहा कि यूक्रेन ने रूस की तेल रिफाइनरियों को निशाना बनाया जिसके जवाब में उसके (यूक्रेन के) उर्जा संयंत्रों पर हमले किये गये हैं। ट्राइपिल्स्का संयंत्र से तीस लाख लोगों को बिजली की आपूर्ति की जाती थी। हालांकि, इस हमले के बाद बिजली की आपूर्ति बंद नहीं हुई क्योंकि संयंत्र को सुधार लिया गया था। फिर भी आने वाले महीनों में इस हमले का परिणाम देखने को मिल सकता है क्योंकि बढ़ते तापमान के कारण ‘एयरकंडीशंड’ (एसी) का उपयोग बढ़ेगा।

‘10 हमलों में बिजली आपूर्ति के बुनियादी ढांचे को नुकसान पहुंचा’

यूक्रेन के दूसरे सबसे बड़े शहर खारकीव में रूस द्वारा रातभर किये गये कम से कम 10 हमलों में बिजली आपूर्ति के बुनियादी ढांचे को नुकसान पहुंचा है। विदेश मंत्री दिमित्रो कुलेबा ने कहा कि इस क्षेत्र में 200,000 से अधिक लोग रहते हैं, जो बार-बार बिजली आपूर्ति बाधित होने से परेशानी उठा रहे हैं।

jpeg

इस साल के सबसे भीषण हमलों में से एक बताया

यूक्रेन के सबसे बड़े निजी ऊर्जा संचालक डीटीईके ने इस हमले को इस साल के सबसे भीषण हमलों में से एक बताया। वहीं, ऊर्जा मंत्री हरमन हलुशचेंको ने संवाददाताओं से कहा कि यह एक बड़ा मिसाइल हमला था, जिससे हमारा ऊर्जा क्षेत्र बुरी तरह प्रभावित हुआ है।

jpeg 1

रूस ने यूक्रेन के ऊर्जा संयंत्रों पर नये सिरे से हमले शुरू किये

रूस ने यूक्रेन के ऊर्जा संयंत्रों पर नये सिरे से हमले शुरू किये हैं। वहीं, पिछले महीने रूसी हमलों से देश के कई हिस्सों में बिजली आपूर्ति ठप हो गई। यूक्रेन के नेताओं ने ऐसे हमलों से बचने के लिए और अधिक वायु रक्षा प्रणालियों की मांग की है। गोटा ने कहा, आज की स्थिति दर्शाती है कि मिसाइलों को मार गिराने के लिए कुछ भी नहीं बचा है। इसके साथ ही रूसी हमलों के बारे में जानकारी सामान्यत: संग्रहीत होती है। ऐसे हमले भारी और अत्यंत चिंताजनक होते हैं, जो राजनीतिक और भौतिक नुकसान का कारण बन सकते हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 − twelve =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।