आतंकियों से इस गद्दार ने मिलाया था हाथ, अनंतनाग अटैक के पीछे थी साजिश की पूरी प्लानिंग

अनंतनाग हमले में चार सेना के जवानों की आतंकियों से मुठभेड़ में जान चली गई है, बता दें कि 12 सितंबर 2023 की सुबह जिस समय कश्मीर में सभी लोग सो रहे थे, उसी वक्त खुफिया एजेंसी को एक खबर मिली, जो जासूस आंतकवादियों को सूचना देने का काम कर रहा था,

अनंतनाग हमले में चार सेना के जवानों की आतंकियों से मुठभेड़ में जान चली गई है, बता दें कि 12 सितंबर 2023 की सुबह जिस समय कश्मीर  में सभी लोग सो रहे थे, उसी वक्त खुफिया एजेंसी को एक खबर मिली, जो जासूस आंतकवादियों को सूचना देने का काम कर रहा था, जो पुलिस के लिए नहीं बल्कि आतंकियों से मिला था, उस जासूस ने  जम्मू-कश्मीर पुलिस तक खबर पहुंचाई कि कोकेरनाग के जंगल में एकदम सटीक लोकेशन पर आतंकवादी संगठन लश्कर के दो खूंखार आतंकवादी छुपे है। जी हां यह वही मुखबिर है जो आतंकवादियों को बता रहा था कि आर्मी, पुलिस कब आ रही है उसमें आतंकियों को यह भी बता दिया था की टीम कैसे और कितनी संख्या में आ रही है?  वह पुलिस का मुखबिर नहीं बल्कि आतंकियों का एक एजेंट था।
अनंतनाग में आतंकियों के हमले में शहीदों की संख्या बढ़ी
जम्मू और कश्मीर के अनंतनाग में आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ के दौरान शहीद कर्नल मनप्रीत सिंह और मेजर आशीष का आज अंतिम संस्कार होने वाला है शहीदों के पार्थिव शरीर को दोपहर के बाद पैतृक गांव लाया जाएगा।  जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में आतंकी और सुरक्षा बलों के बीच हुई यह मुठभेड़ अभी भी जारी है बुधवार के दिन सुबह शुरू हुई मुठभेड़ के अंदर दो सेना और जम्मू कश्मीर के पुलिस अफसर शहीद हो गए जबकि गुरुवार के दिन भी दो जवानों के जख्मी होने के साथ-साथ करीब पांच लोग जवान हो गए।  मुठभेड़ वाले इलाके में एक स्थानीय आतंकी उज्जैन खान और एक विदेशी आतंकी होने की पुष्टि जम्मू कश्मीर की पुलिस कर रही है ऑपरेशन को लंबा खींचने की भी संभावना जताई जा रही है हालांकि सूत्रों से यह भी  जानकारी मिली है कि एक आतंकी को सुरक्षा बलों ने मार गिराया है जबकि दूसरे की तलाश अभी जारी है लेकिन आधारित बयान अभी जारी नहीं हुआ है। 
सेना का सर्च ऑपरेशन अभी भी जारी
अनंतनाग में हो रहे मुठभेड़ के कारण लगातार जवानों के शहीद होने की खबर सामने आ रही है जहां अनंतनाग में लापता जवान का शव भी मिला है यहां एनकाउंटर में शहीद होने वाले जवानों की संख्या चार हो गई है इलाके में भी सेना का सर्च ऑपरेशन अभी जारी है साथ ही इलाकों के कई जगह को सुरक्षा बलों द्वारा घेरा जा चुका है। 13 सितंबर के दिन इस ऑपरेशन के अंदर तीन अफसर शहीद हुए थे। और आज उनकी संख्या बढ़कर चार हो गई है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + nine =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।