लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

‘पुरानी पेंशन योजना’ पर फडणवीस ने तोड़ी चुप्पी, कहा- योजना नहीं होगी लागू… नहीं तो राज्य हो जाएगा दिवालिया

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बुधवार को कहा कि सरकार पुरानी पेंशन योजना बहाल नहीं करेगी क्योंकि इससे राजकोष पर 1.10 लाख करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा और राज्य दिवालिया हो जाएगा।

पुरानी पेंशन योजना को लेकर महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने बुधवार को स्पष्ट किया कि सरकार पुरानी योजना को फिर से बहाल नहीं कर सकती है। क्योंकि इससे हमारे राज्य के राजकोष पर 1.10 लाख करोड़ रूपये का बोझ पडे़गा, और हमारा राज्य पूर्ण रूप से दिवालिया भी हो जाएगा। 
महाराष्ट्र में पुरानी पेशन योजना 2005 में की गई थी बंद
Former Maharashtra CM And BJP Leaders Devendra Fadnavis Covid Report  Negative After Five Days | Maharashtra News: पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस ने  कोरोना को दी मात, आरटी-पीसीआर रिपोर्ट आई निगेटिव
राज्य विधानसभा में एक सवाल पर फडणवीस ने कहा कि पुरानी पेंशन योजना 2005 में बंद कर दी गयी थी। उन्होंने राज्य के हित में पुरानी पेंशन योजना बंद करने का फैसला लेने के लिए तत्कालीन कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सरकार की प्रशंसा भी की। इस योजना के तहत कर्मचारी को पेंशन के रूप में अंतिम वेतन की 50 प्रतिशत धन राशि दी जाती थी।
पुरानी पेंशन योजना से महराष्ट्र दिवालिया हो जाएगा
महाराष्ट्र के वित्त मंत्री फडणवीस ने कहा, ‘‘सरकार पुरानी योजना के अनुसार पेंशन नहीं देगी। अगर पुरानी पेंशन योजना लागू की जाती है तो इससे 1,10,000 करोड़ रुपये का बोझ बढ़ेगा और इससे राज्य दिवालिया हो जाएगा। पुरानी पेंशन योजना लागू नहीं होगी।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − one =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।