राजस्थान : अलवर में 300 वर्ष पुराने मंदिर को तोड़ने के मामले में हुई कार्रवाई, 3 अधिकारी सस्पेंड

अलवर जिले में बुलडोजर द्वारा ढहाए गए 300 वर्ष पुराने मंदिर के मामले में राज्य सरकार ने राजगढ़ (अलवर) नगरपालिका के अध्यक्ष व अधिशासी अधिकारी (ईओ) को निलंबित कर दिया है।

राजस्थान के अलवर जिले में बुलडोजर द्वारा ढहाए गए 300 वर्ष पुराने मंदिर के मामले में राज्य सरकार ने  राजगढ़ (अलवर) नगरपालिका के अध्यक्ष व अधिशासी अधिकारी (ईओ) को निलंबित कर दिया है। स्वायत्त शासन विभाग ने इस बारे में आदेश जारी किया। आदेश के अनुसार राजगढ़ नगरपालिका क्षेत्र में 17 अप्रैल को विभिन्न निर्माण कार्य हटाने के प्रकरण में विभाग ने प्राथमिक जांच करवाई। आदेश के अनुसार इस जांच की रिपोर्ट व उपलब्ध दस्तावेजों के अनुसार नगरपालिका अध्यक्ष सतीश दुहारिया ने विधि विरूद्ध आचरण किया।
विधि विरूद्ध आचरण का दोषी पाए जाने के बाद किया है निलबिंत
आदेश के अनुसार विभाग ने इस मामले की न्यायिक जांच करवाने का फैसला किया है और चूंकि दुहारिया के खिलाफ आरोप प्रथम दृष्टया सही पाए गए हैं तो उन्हें अध्यक्ष व पार्षद पद से तुरंत प्रभाव से निलंबित किया जाता है। इसी तरह विभाग के एक अन्य आदेश के अनुसार पालिका के अधिशासी अधिकारी बनवारी लाल मीणा को भी प्राथमिक जांच में कर्तव्य के प्रति लापरवाही व विधि विरूद्ध आचरण का दोषी पाए जाने पर पद से निलंबित कर किया गया है।

1650969084 rajgarh

भाजपा ने हिन्दुओं की आस्था को ठेस पहुंचाने का लगाया था आरोप
उल्लेखनीय है कि सरकार ने राजगढ़, अलवर के उपखंड अधिकारी केशव कुमार मीना (आरएएस) को भी सोमवार को निलंबित कर दिया था। राजगढ़ नगरपालिका क्षेत्र में 17 अप्रैल को अतिक्रमण हटाओ अभियान के दौरान एक मंदिर को ढहाने को लेकर विवाद हो गया था जिसे लेकर राजनीति भी गरमा गई थी। भाजपा ने कांग्रेस पर हिन्दुओं की आस्था को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया था।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirteen − eleven =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।