Himba Tribe: जिंदगी में सिर्फ एक बार नहाती है इस जनजाति की महिलाएं, फिर भी नहीं आती बदबू... - Latest News In Hindi, Breaking News In Hindi, ताजा ख़बरें, Daily News In Hindi

लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

Himba Tribe: जिंदगी में सिर्फ एक बार नहाती है इस जनजाति की महिलाएं, फिर भी नहीं आती बदबू…

बचपन से ही हमें सिखाया जाता है, खुद को साफ रखना एक अच्छी आदत होती है। वहीं खुद को साफ और सभी बीमारियों से दूर रखने के लिए हर रोज़ नहाना भी जरूरी बताया जाता है। लेकिन अगर हम आपको बताएं कि दुनिया में एक ऐसी जनजाति है, जिसकी महिलाएं ज़िंदगी में सिर्फ एक बार नहाती हैं। तो आप कहेंगे की ये कैसे मुमकिन है और कोई भी व्यक्ति नहाए बिना कैसे रह सकता है? तो बता है कि ऐसी एक जनजाति वाकई में मौजूद है, जिसकी महिलाएं ज़िंदगी में सिर्फ एक बार नहाती है।

What Is The Himba Tribe known For m

एक बार नहाती है ये जनजाति

बता दें, इस जनजाति का नाम हिम्बा है। ये नार्थ-वेस्ट नामीबिया के कुनैन प्रान्त में रहती है। इस जनजाति की अलग इतिहास, संस्कृति और सभ्यता हैं। वहीं, इस जनजाति की महिलाओं का रहन-सहन काफी दिलचस्प हैं या कहें कि इनका रहन-सहन इतना अलग है की जहां कुछ लोग एक दिन में ही दो बार नहा लेते है वहां ये महिलाएं जिंदगी में सिर्फ एक बार ही नहाती हैं।

why himba tribe women never take bath 2

शादी पर नहाती हैं महिलाएं

मालूम हो, इस जनजाति की महिलाएं सिर्फ अपनी शादी वाले दिन ही पानी से नहा पाती हैं। ऐसे में अब आप भी सोच रहे होंगे कि इनके शरीर से काफी बदबू आती होंगी। तो बता दें कि आप यहां गलत है, ये जनजाति बेशक एक बार नहाती है लेकिन इनमें से बदबू बिल्कुल नहीं आती है। बता दें, अपने शरीर को साफ़ रखने के लिए यह महिलाएं पानी में एक खास तरह की जड़ी-बूटी उबालती हैं। जिसके बाद उसके धुंए से वह अपने शरीर को साफ़ रखती है। इन जड़ी-बूटी के चलते उनके शरीर से बिल्कुल भी गंध नहीं आती है।

e482da65901419.5b0ff3fedff63 scaled

लोशन का करती है इस्तेमाल

जड़ी-बूटी के अलावा इस जनजाति की महिलाएं लोशन का भी इस्तेमाल करती हैं। लेकिन इनका लोशन हमारी तरह नहीं होता है बल्कि ये अपना लोशन खुद बनाते है। बता दें, जैसे इनका नहाना जड़ी-बूटियों से होता है उसी तरह से इनका लोशन भी अलग तरीके से बनता है। ये लोशन जानवर की चर्बी और हेमाटाइट (लौहे के खनिज) की धूल से तैयार किया जाता हैं। जिससे उनकी स्किन रेड दिखती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 − eleven =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।