Search
Close this search box.

IND vs SA : केपटाउन की पिच को लेकर डीन एल्गर का बयान हुआ वायरल

IND vs SA के बीच दूसरे टेस्ट की पिच में अत्यधिक उछाल और सीम मूवमेंट की पेशकश के साथ, हाल ही में संन्यास लेने वाले खिलाड़ी डीन एल्गर ने कहा कि मैच के लिए 22 गज की पिच सभी की अपेक्षा से बिल्कुल अलग थी।

HIGHLIGHTS

  • IND vs SA केपटाउन टेस्ट केवल डेढ़ दिन में समाप्त
  • भारत ने दक्षिण अफ्रीका को 7 विकेट से हराया 
  • डीन एल्गर ने लिया अंतराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास 373602

आपको बता दें कि मैच में, दक्षिण अफ्रीका अपनी पहली पारी में सिर्फ 55 रन पर आउट हो गया, जबकि भारतीय टीम भी अपनी पहली पारी में केवल 153 रन बनाकर ऑलआउट हो गया। भारतीय टीम के 98 रन की बढ़त लेने के बाद, प्रोटियाज़ टीम दूसरी पारी में भी सिर्फ 176 रन बना पाई, जिसमें एडेन मारक्रम के 103 गेंदों में 106 रन भी शामिल थे। इस तरह भारत को सिर्फ 79 रन का लक्ष्य मिला
दूसरे दिन दूसरे सत्र के मध्य में, भारत ने 12 ओवर में 79 रनों का पीछा करते हुए सात विकेट से जीत हासिल की और श्रृंखला 1-1 से बराबर कर ली।
मैच ख़त्म होने के बाद एल्गर ने कहा, “यह पिच थोड़ी ज्यादा तेज थी। नग्न आंखों को ऐसा लग रहा था कि यह बहुत अच्छा होने वाला है। हर किसी ने जो भी इस पिच के लिए सोचा था यह पिच उससे बिल्कुल अलग खेली। अगर आप भारतीय कप्तान ‘रोहित शर्मा’ से पूछेंगे तो वो भी टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का ही फैसला करते। एल्गर ने कहा कि भारतीय टीम ने पहले सत्र में ही हमें मात दे दी थी।”
बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज ने श्रृंखला में दक्षिण अफ्रीका के लिए अच्छा प्रदर्शन करने के लिए गेंदबाजों और मारक्रम की प्रशंसा की। “हमारे लिए यह कठिन है। इस खेल में काफी सकारात्मकता आ रही है। बल्ले से हम पहली पारी में ही पिछड़ गए थे। भारत ने शानदार गेंदबाजी की और परिस्थितियों का भरपूर फायदा उठाया। अभी भी ड्रा है, फिर भी हमारी टीम में मौजूद युवा खिलाड़ियों के लिए बहुत सारी सकारात्मकताएं हैं।” 373600“2-0 का परिणाम वास्तव में अच्छा होता, फिर भी हम 1-1 से ही बराबरी कर पाए, मुझे टीम के खिलाड़ियों पर गर्व है। इस सीरीज में गेंदबाजों ने जिस तरह से गेंदबाजी की और दूसरी पारी में एडेन ने जिस तरह से बल्लेबाजी की, वह दुनिया से अलग है।’
एल्गर ने प्लेयर ऑफ द सीरीज़ का पुरस्कार भी जसप्रीत बुमराह के साथ साझा किया, क्योंकि बाएं हाथ के बल्लेबाज ने दो मैचों में 212 रन बनाए। “मैं इस खेल में और अधिक करना पसंद करूंगा, हमारे पास प्रयास करने और बचाव करने के लिए कुछ और रन हो सकते थे। मुझे अब भी सेंचुरियन में अपने प्रदर्शन पर बहुत गर्व है।” उन्होंने सेंचूरियन की अपनी पारी को शानदार बताया और कहा कि टीम की जीत में योगदान देकर अच्छा लगा। सेंचूरियन में पूरे समय बल्लेबाजी करना मुश्किल था। अगर यह 3 टेस्ट मैचों की सीरीज होती तो बढ़िया रहता।” 373601डीन एल्गर ने जसप्रीत बुमराह की तारीफ़ करते हुए कहा कि आप खुद को चुनौती देना चाहते हैं और दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के खिलाफ खेलना चाहते हैं। बुमराह एक विश्व स्तरीय गेंदबाज हैं, वह इस मैन ऑफ द सीरीज पुरस्कार के हकदार हैं।’ एक खिलाड़ी के रूप में, आप खुद को परखना चाहते हैं और खुद को अलग-अलग सीमाओं तक ले जाना चाहते हैं।” यह श्रृंखला एल्गर के अंतरराष्ट्रीय करियर की अंतिम सीरीज थी, जिसमें उन्होंने 86 टेस्ट मैचों में 37.92 के औसत से 5347 रन बनाए, जिसमें 14 शतक और 23 अर्द्धशतक शामिल हैं। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के लिए आठ वनडे मैच भी खेले। 373555उन्होंने आगे कहा कि मैं ख़ुश हूँ कि मुझे दोबारा इन लोगों का सामना नहीं करना पड़ेगा। मुझे यकीन है कि मैंने वह टेस्ट मैच खेला था जब बुमराह ने अपना डेब्यू किया था। इन लोगों के खिलाफ खेलने के लिए बहुत आभारी हूं।” इस टीम के साथ मेरी ढेर सारी अच्छी, और अद्भुत यादें हैं । मुझे डेब्यू कैप 2012 में पर्थ में मिला था, मैंने इसके साथ केवल एक सीरीज मिस की है और वह वेस्टइंडीज थी।”
अब मुझे एक विशेष जगह ढूंढनी होगी। मुझे ख़ुशी है कि मैं देश के लिए खेल पाया और सपने को पूरा कर पाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

18 − 11 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।