जापान में भूकंप से मरने वालों की संख्या बढ़कर 65 हुई, खराब मौसम के कारण बचाव कार्य में आ रही बाधा

इस हफ्ते की शुरुआत में मध्य जापान के इशिकावा प्रांत में आए सिलसिलेवार शक्तिशाली भूकंपों से मरने वालों की संख्या बुधवार को बढ़कर 65 हो गई। लगातार आ रहे झटकों और खराब मौसम के कारण बचाव कार्य में बाधा आ रही है। समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने स्थानीय अधिकारियों के हवाले से जापान के क्योडो न्यूज के हवाले से बताया कि इशिकावा में सबसे ज्यादा प्रभावित वाजिमा शहर ने कुल 32 मौतों की पुष्टि की है। क्षेत्र में महसूस किए गए सिलसिलेवार झटकों की श्रृंखला में बुधवार की सुबह 5.6 तीव्रता का एक और झटका आया। इससे पहले मंगलवार की शाम 4.6 तीव्रता का झटका नोटो प्रायद्वीप पर आया था।

HIGHLIGHTS  

  • जापान में भूकंप से मरने वालों की संख्या बढ़कर 65 हुई 
  • खराब मौसम के कारण बचाव कार्य में आ रही बाधा 
  • जमीन की सतह में एक महत्वपूर्ण उत्थान का पता लगाया 

खोज और बचाव अभियान अभी भी बाधित

भूकंप की पूरी तीव्रता अज्ञात है, क्योंकि मलबे और टूटी सड़कों के कारण बुधवार को खोज और बचाव अभियान अभी भी बाधित हो रहा है, सोमवार को आए 7.6 तीव्रता के भूकंप के दो दिन बाद वाजिमा में बड़े पैमाने पर संरचनात्मक क्षति हुई और आग लग गई। प्रीफेक्चुरल सरकार के अनुसार, गंभीर रूप से प्रभावित नानाओ शहर सहित कम से कम तीन नगर पालिकाओं में सड़कें कट जाने के कारण कम से कम 60 लोग अब अलगाव की स्थिति में हैं।

जमीन की सतह में एक महत्वपूर्ण उत्थान का पता लगाया

नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर लैंड एंड इंफ्रास्ट्रक्चर मैनेजमेंट ने मंगलवार को घोषणा की कि उन्होंने जमीन की सतह में एक महत्वपूर्ण उत्थान का पता लगाया है, जो वाजिमा शहर में लगभग चार मीटर तक पहुंच गया है। जेएमए ने इशिकावा प्रांत के लिए संभावित भूस्खलन की चेतावनी जारी की है और कुछ कटे हुए गांवों सहित आपदा प्रभावित क्षेत्रों में गुरुवार तक रुक-रुक कर बारिश होने की संभावना है।

सबसे ज्यादा तबाही वाले शहर में भारी बारिश का अलर्ट

स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, इशिकावा प्रीफेक्चुरल अधिकारियों ने केंद्र सरकार से आपदा राहत के लिए आत्मरक्षा बल (एसडीएफ) कर्मियों को भेजने के लिए कहा है और बलों को कटे हुए क्षेत्रों में आपूर्ति पहुंचाने के लिए हेलीकॉप्टरों का उपयोग करने के लिए तैयार किया गया है। प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने बुधवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सरकार ने आपदा प्रभावित क्षेत्र में एसडीएफ सदस्यों की संख्या वर्तमान 1,000 से दोगुनी करने का निर्णय लिया है। टोक्यो के हानेडा हवाईअड्डे पर जापान एयरलाइंस के विमान और राहत सामग्री ले जा रहे जापान तटरक्षक विमान के बीच दुखद टक्कर के एक दिन बाद किशिदा ने कहा कि दुर्घटना का आपदा राहत कार्य पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा है और क्षेत्रों में राहत सामग्री का परिवहन लगातार प्रगति कर रहा है।
सोमवार को इशिकावा प्रांत के नोटो क्षेत्र में कम गहराई पर 7.6 तीव्रता वाले भूकंप के तेज झटके आए थे।

2024 नोटो प्रायद्वीप भूकंप का नाम दिया

जेएमए ने आधिकारिक तौर पर इसे 2024 नोटो प्रायद्वीप भूकंप का नाम दिया है। वाजिमा से लगभग 30 किलोमीटर पूर्व-उत्तरपूर्व में केंद्रित विनाशकारी भूकंप की अधिकतम तीव्रता 7 दर्ज की गई, जिससे लोगों के लिए खड़ा होना मुश्किल हो गय। जेएमए विशेषज्ञ ने कहा कि भूकंप, जिसे भूकंपीय झुंड के रूप में वर्गीकृत किया गया है, की लंबाई केंद्र क्षेत्र में 150 किमी तक थी, जिससे अभूतपूर्व पैमाने और झटकों की तीव्रता हुई, यह देखते हुए कि ऐसा भूकंप अब से पहले 2018 में होक्काइडो में दर्ज किया गया था। स्थानीय अधिकारियों के अनुसार, भूकंप के बाद इशिकावा प्रांत में बुधवार सुबह तक लगभग 34,000 घरों में अभी भी बिजली की आपूर्ति बाधित थी, जहां 33,000 से अधिक लोगों ने शरण ले रखी है।  नगरपालिका अधिकारियों के अनुसार, भूकंप प्रभावित इलाकों में नुकसान की खबरें और ढहे हुए घरों के नीचे लोगों के दबे होने या फंसे होने के कई मामले सामने आते रहे हैं। जेएमए ने भूकंप के बाद जापान सागर के किनारे सुनामी की सभी सलाह हटा ली है, लेकिन मौसम अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि इस सप्ताह खासकर अगले दो से तीन दिनों में मजबूत झटके आ सकते हैं।

देश और दुनिया की तमाम खबरों के लिए हमारा YouTube Channel ‘PUNJAB KESARI’ को अभी subscribe करें। आप हमें FACEBOOK, INSTAGRAM और TWITTER पर भी फॉलो कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × three =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।