बिहार : विधान परिषद में मंत्री ने दी जानकारी, राज्य में बनेगी छह हजार किलोमीटर लंबी सड़कें, दोनो ओर लगेंगे पौधें

राज्य में नए वित्तीय वर्ष 2022-23 में मुख्यमंत्री ग्राम संपर्क योजना के तहत छह हजार किलोमीटर लंबी ग्रामीण पथों का निर्माण कराया जाएगा।

बिहार राज्य में नए वित्तीय वर्ष 2022-23 में मुख्यमंत्री ग्राम संपर्क योजना के तहत छह हजार किलोमीटर लंबी ग्रामीण पथों का निर्माण कराया जाएगा। ग्रामीण कार्य विभाग द्वारा तैयार इन सड़कों के किनारे पौधे भी लगाए जाएंगे। ग्रामीण विकास मंत्री जयंत राज ने बताया कि इसके अतिरिक्त प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में 2,500 किलोमीटर लंबी सड़क भी बनाई जाएगी। इसके साथ ही नौ हजार किलोमीटर लंबे गामीण पथों की मरम्मति और अनुरंक्षण कराने का लक्ष्य तय किया गया है।
सड़कों का किया गया है सर्वे :  जयंत राज 
ग्रामीण विकास मंत्री जयंत राज ने बुधवार को विधान परिषद में बताया कि सड़क किनारे पौधरोपण कराया जाएगा। इसके साथ ही इन सड़कों पर अनिवार्य सड़क सुरक्षा मानकों का प्रावधान किया जाएगा। 12,555 किलोमीटर लंबी 1660 सड़कों का सर्वे भी कर लिया गया है। ग्रामीण पथों का थ्रीडी इमेजिंग कैमरा के जरिए निरीक्षण कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि, सड़कों की गुणवत्ता बेहतर रखने के लिए इंजीनियर और संवेदकों को प्रशिक्षित करने की भी योजना बनाई गई है।
इन जिलों में बनेगी सड़कें 
इसके अलाव पथ निर्माण विभाग ने राज्य के 28 जिलों की सड़कें बाढ़ व भूकंपरोधी बनाने की योजना बनाई है। पथ निर्माण विभाग ने जीआईएस मैपिंग के आधार पर इन 28 जिलों की क्रिटिकल प्रोफाइल बनाई है। विभाग ने सड़क सुरक्षा ऑडिट के लिए इन 28 जिलों को दो ग्रुपों में बांटा है। ग्रुप ए में अररिया, सुपौल, सहरसा, मधेपुरा और किशनगंज समेत 10 जिलों को शामिल किया गया है, जबकि ग्रुप बी में भागलपुर, बांका, कटिहार, खगड़िया, पूर्णिया समेत 18 जिलों को लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 1 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।