जन सुराज कोई आंदोलन नहीं है, ये समाज की मदद से एक नई व्यवस्था बनाकर बिहार को बेहतर बनाने का अभियान है : प्रशांत किशोर

जन सुराज पदयात्रा के दौरान सारण के पंचायती राज व्यवस्था से जुड़े जनप्रतिनियों को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि बिहार के लोग कह रहे हैं

जन सुराज पदयात्रा के दौरान सारण के पंचायती राज व्यवस्था से जुड़े जनप्रतिनियों को संबोधित करते हुए प्रशांत किशोर ने कहा कि बिहार के लोग कह रहे हैं कि जन सुराज एक आंदोलन है तो मैं आपको बता दूँ कि जन सुराज कोई आंदोलन नहीं है. आंदोलन में मेरा भरोसा ही नहीं है। मानव सभ्यता के इतिहास को पढ़ने पर आप देखेंगे कि आंदोलन से कभी मानव सभ्यता का कोई भला नहीं हुआ हैं। दुनिया में फ्रांस की क्रांति को छोड़ दें तो बाकी कोई भी आंदोलन या क्रांति हुई है या होती है तो उससे सत्ता बदल सकते हैं। सत्ता से लोगों को हटा सकते है लेकिन नई सत्ता नहीं बना सकते हैं। किसी भी चीज को बनाना है तो उसके लिए समय लगता है एक बड़ी बिल्डिंग को आप एक दिन में गिरा सकते हैं लेकिन उसको एक दिन में बना नहीं सकते हैं। ये बात आपको समझनी पड़ेगी की जन सुराज एक अभियान है आंदोलन नहीं। जन सुराज का मकसद है समाज को मथकर सही लोगों को चिन्हित करना और उनकी मदद से एक नई राजनीतिक व्यवस्था बनाना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

six − 5 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।