Search
Close this search box.

प्रदेश में लागू हो राष्ट्रपति शासन : चिराग

लोक जनशक्ति पार्टी(रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व जमुई सांसद आदरणीय श्री चिराग पासवान जी बीते दिनों नालंदा जिले में जहरीली शराब से हुई मौत से प्रभावित परिवारों से मिलकर उन्हें अपनी संवेदना व्यक्त की।

लोक जनशक्ति पार्टी(रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष व जमुई सांसद आदरणीय श्री चिराग पासवान जी बीते दिनों नालंदा जिले में जहरीली शराब से हुई मौत से प्रभावित परिवारों से मिलकर उन्हें अपनी संवेदना व्यक्त की। उक्त घटना मुख्यमंत्री के गृह जिले में घटी है जहां कुल 13 लोगों की मौत की सरकार ने पुष्टि की है वहीं दर्जनों लोगों की हालत अबतक बेहद चिंताजनक बनी हुई हैं, बावजूद प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार जी द्वारा प्रभावित परिवारों के प्रति अबतक कोई संवेदना ना व्यक्त किया जाना बेहद दुखद है। 
उक्त बातें लोजपा(रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री चिराग पासवान ने कही। उन्होंने आगे कहा कि प्रदेश के विभिन्न जिलों में लगातार जहरीली शराब पीने से विशेषकर गरीबों और दलितों की मौत निरंतरता में हो रही है और सरकार पूरी तरह चुप्पी साधी हुई है। प्रशासन और सत्ता में बैठे लोगों के संरक्षण में अवैध और जहरीली शराब का धंधा पूरी तरह फल-फूल रहा है, प्रतिदिन माफियाओं द्वारा प्रदेशभर में शराब की होम डिलीवरी हो रही है। शराबबंदी कानून का पूरी तरह पालन कराने में प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पूरी तरह विफल साबित हो गये है। 
श्री चिराग ने इस घटना में संलिप्त सभी दोषियों की गिरफ्तारी करते हुए उनपर स्पीडी ट्रायल के तहत कठोर से कठोर ढ़ंड सुनिश्चित करने की सरकार से मांग की। श्री चिराग ने आगे कहा कि बीते माह प्रदेश के विभिन्न जिलों में यथा बेतिया, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर, वैशाली, नवादा, कैमूर में पिछले दिनों जहरीली शराब के सेवन से सैकड़ों लोगों की अबतक जान जा चुकी है लेकिन सरकार द्वारा कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई है। 
इससे साबित होता कि प्रदेश के मुख्यमंत्री प्रदेश में कानून व्यवस्था और शराबबंदी कानून के पालन कराने में पूरी तरह असक्षम साबित हो गयें है, ऐसे में प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति लचर और अनिंयत्रित हो गई है और प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू करने की स्थिति उत्पन्न हो गई है। नालंदा के स्थानीय लोगों ने बताया कि ऐसी घटनाएं प्रशासनिक लापरवाही एवं शराब के अवैध निर्माण तथा कारोबार से जुड़े लोगों की प्रशासनिक मिलीभगत के कारण घटी हैं।
श्री चिराग ने कहा कि राज्य के कई जिलों में अबतक जहरीली शराब ने कई   घरों को उजाड़ दिया हैं। प्रशासनिक उदासीनता के कारण प्रदेश में ऐसी घटनाओं की पुनरावृति निरंतर हो रही है जबकि प्रदेश के मुख्यमंत्री के पास गृह विभाग की भी जिम्मेवारी है। लेकिन राज्य में लगातार अपराधिक घटनाऐं निरंतरता में घट रही है। प्रदेश के मुख्यमंत्री के उदासीनता का खामियाजा राज्य के निर्दोष और भोली-भाली जनता को उठानी पड़ रही है। 
प्रदेश में अपराधियों का मनोबल इतना बढ़ गया है कि मुख्यमंत्री जी के गृह जिले नालंदा में अपराधियों ने एक व्यवसायी को सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी लेकिन पुलिस के अर्कमणयता के कारण अपराधी बेलगाम घुम रहे हैैं और अबतक अपराधियों की गिरफ्तारी नहीं हो पा रही है जो बेहद चिंता का विषय है। उक्त स्थिति के मद्देनजर  चिराग ने महामहिम से प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 − 2 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।