ड्रेसिंग सेंस को लेकर जज करने वालों पर फूटा मलाइका का गुस्सा, बोलीं- ‘नेकलाइन से जज किया जाता है’

मैं उन लोगों के हिसाब से नहीं जी सकती जो मेरी हेमलाइन और नेकलाइन के बारे में बात करते हैं। ये मेरा निजी मामला है और ड्रेसिंग एक पर्सनल च्वाइस है। अगर मैं कंफर्टेबल महसूस कर रही हूं तो मैं पहन सकती हूं क्योंकि मुझे पता है कि मुझ पर क्या अच्छा लगेगा क्या नहीं?

बॉलीवुड एक्ट्रेस मलाइका अरोड़ा को आए दिन अपने निजी जीवन के चलते सुर्ख़ियों में देखा जाता है। अदाकारा अक्सर अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर सुर्खियों में रहती हैं और अपनी अदाओं से सभी का दिल जीत लेती हैं। वैसे वह इन दिनों बॉलीवुड एक्टर अर्जुन कपूर को डेट कर रही हैं। इसी के साथ अत्रिनेत्री को अक्सर उनके ड्रेसिंग सेंस को लेकर सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जाता है। आप सभी को बता दें कि अब इन सभी बातों को लेकर मलाइका ने एक वेबसाइट को इंटरव्यू दिया है जिसमे उन्होंने अपनी पर्सनल लाइफ को लेकर खुलकर बात की है।
1642921819 arora
इस दौरान एक्ट्रेस ने कहा कि, ‘महिलाओं को हमेशा उनकी हेमलाइन और नेकलाइन से जज किया जाता है।’ इसी के साथ उन्होंने कहा, ”कपड़े पहनना आपका पर्सनल च्वाइस है कोई और कैसे बता सकता है कि आपको किस तरह के कपड़े पहनने चाहिए?” आगे उन्होंने कहा कि, ‘महिलाओं को हमेशा उनकी स्कर्ट लेंथ और नेकलाइन के हिसाब से जज किया जाता है।
 मैं उन लोगों के हिसाब से नहीं जी सकती जो मेरी हेमलाइन और नेकलाइन के बारे में बात करते हैं। ये मेरा निजी मामला है और ड्रेसिंग एक पर्सनल च्वाइस है। अगर मैं कंफर्टेबल महसूस कर रही हूं तो मैं पहन सकती हूं क्योंकि मुझे पता है कि मुझ पर क्या अच्छा लगेगा क्या नहीं? अगर मुझे लगता है कि ये आउटफिट ठीक नहीं लग रहा है तो मैं नहीं पहनूंगी। ये मेरी पंसद है और किसी को भी ये बताने का अधिकार नहीं है।’
1642921831 malaika arora arjun kapoor
इसके आलावा उन्होंने अपने तलाक के बारे में बात की। उन्होंने बताया कि जब मेरा तालाक हुआ था तब मुझे ये सोचना था कि मेरे बच्चा इससे कैसे निपटेगा और लोगों की क्या प्रतिक्रिया होगी। आगे उन्होंने कहा, ”मैं उस समय पर्सनल स्ट्रगल से गुजर रही थीं। जब मैंने तलाक लिया था तब मुझ पर बहुत प्रेशर था। मैं हमेशा सोचती थी कि मेरे बच्चा कैसे निपटेगा। मैं इसे कैसे झेलूंगी। मुझे लगता था कि इतना सब कुछ होने के बाद मैं फिर से काम नहीं कर पाऊंगी। मेरे लिए वो सबसे मुश्किल था। मेरे ये फैसला कई लोगों को प्रभावित करने वाला था। इसकी वजह से काफी तनाव में थी। लेकिन मैंने अपने दिल की सुनी और वही किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 − 1 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।