रणधीर कपूर चाहते हैं दिवंगत भाई राजीव कपूर की संपत्ति पर अधिकार, हाई कोर्ट में चल रहा हैं मामला

कपूर खानदान की इस पीढ़ी के रणधीर कपूर और उनकी रीमा जैन जिंदा हैं। दोनों ने राजीव कपूर की प्रॉपर्टी पर अपने हक के लिए हाईकोर्ट में पीटिशन फाइल की है।

बीते कुछ महीनों में कपूर खानदान पर दुखों का पहाड़ टूटा है। बीते साल दिग्गज एक्टर ऋषि कपूर इस दुनिया को अलविदा कहकर चले गए थे और अभी हाल ही में 9 फरवरी को उनके भाई राजीव कपूर का भी निधन हो गया है। ऋषि और राजीव के निधन के बाद उनके भाई रणधीर कपूर इस सदमे से अभी तक बाहर नहीं आ पाए हैं। कपूर खानदान की इस पीढ़ी के रणधीर कपूर और उनकी रीमा जैन जिंदा हैं। दोनों ने राजीव कपूर की प्रॉपर्टी पर अपने हक के लिए हाईकोर्ट में पीटिशन फाइल की है। जिस पर हाई कोर्ट में सुनवाई हुई है। 
1619519918 article l 2021411615102654626000 (1)
राजीव कपूर की पर्सनल लाइफ के बारे में ज्यादा लोग नहीं जानते हैं। पत्नी के साथ मतभेद होने की वजह से दोनों अलग हो गए थे। दोनों कभी पब्लिक प्लेस पर साथ में नजर नहीं आए हैं। रणधीर कपूर और रीमा जैन के वकील ने कहा है कि वे दोनों ही राजीव कपूर की प्रॉपर्टी के हकदार हैं। जिस पर सुनवाई में हाईकोर्ट ने दोनों से राजीव कपूर के तलाक के सबूत लाने के लिए कहा है। 
1619519928 ht
जस्टिस गौतम पटेल ने रणधीर और रीमा की फाइल की हुई पीटिशन पर सुनवाई की। राजीव कपूर की शादी साल 2001 में आरती सबरवाल से हुई थी और 2003 में दोनों का तलाक हो गया था। सुनवाई में रणधीर और रीमा के वकील ने कहा है कि उनके पास राजीव और आरती के तलाक के कागज नहीं हैं और उन्हें नहीं पता है कि किस फैमिली कोर्ट ने तलाक का आदेश जारी किया था। 
रणधीर कपूर और रीमा जैन के वकील ने कहा- सिर्फ भाई और बहन ही राजीव कपूर की प्रॉपर्टी के हकदार हैं। हमारे पास उनके तलाक के कागज नहीं हैं। हम इसे ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन हमे यह नहीं मिले हैं। उन्हें तलाक के कागज पेश करने से छूट दी जाए। जस्टिस गौतम ने कहा है कि कोर्ट तलाक के आदेश के कागज पेश न करने की छूट देने के लिए तैयार है लेकिन पहले स्वीकृति पत्र दिया जाए।  इस मामले की सुनवाई अब स्थगित कर दी गई है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 + 2 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।