Search
Close this search box.

31 मई को कई शहरों में हो सकती है पेट्रोल-डीजल की किल्लत, जाने क्यों?

देशभर में ईंधन के दामों में बढ़ोतरी के बीच सरकार ने हाल ही में पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी को कम कर दिया। सरकार के इस फैसले ने आम लोगों भले ही राहत दी हो लेकिन, पेट्रोलियम डीलर्स को नाराज कर दिया।

देशभर में ईंधन के दामों में बढ़ोतरी के बीच सरकार ने हाल ही में पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी को कम कर दिया। सरकार के इस फैसले ने आम लोगों भले ही राहत दी हो लेकिन, पेट्रोलियम डीलर्स को नाराज कर दिया। जिसके चलते पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने 31 मई को सरकार के इस फैसले के खिलाफ विरोध करने का ऐलान किया है। 
पेट्रोलियम डीलर्स ने 31 मई यानी मंगलवार को सरकारी तेल कंपनियों (OMCs) से डीजल-पेट्रोल नहीं खरीदने का निर्णय लिया है। पेट्रोल पंप चलाने वालों का कहना है कि अचानक दाम में भारी कटौती कर देने से उन्हें नुकसान हुआ है। वहीं कुछ शहरों में डीलर्स ने मंगलवार को डीजल-पेट्रोल नहीं बेचने का फैसला किया है। जिसका सीधा असर आम आदमी पर पड़ने वाला है।
1653898716 petrol diesal
इन मांगों को लेकर विरोध
पेट्रोलियम डीलर्स सरकार से कमीशन बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। डीलर्स का कहना है कि डीजल और पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी में अचानक कटौती करने से उन्हें नुकसान उठाना पड़ा है। सरकार ने जैसे ही ड्यूटी कम की, डीजल और पेट्रोल दोनों की खुदरा कीमतें एक झटके में कम हो गईं। 
डीलर्स का कहना है कि उन्होंने एक दिन पहले अधिक कीमत पर डीजल और पेट्रोल का स्टॉक खरीदा था। ड्यूटी में कमी के बाद उन्हें कम भाव पर बेचना पड़ गया इसके अलावा डीलर्स ये भी कह रहे हैं कि साल 2017 के बाद मार्जिन में कोई बदलाव नहीं किया गया है, इससे भी उन्हें नुकसान हो रहा है।
1653898859 petrol 1
राजस्थान पेट्रोलियम डीलर एसोसिएशन ने अपनी मांगों काे लेकर 31 मई को 3 घंटे डीजल एवं पेट्रोल बिक्री काे बंद करने की घोषणा की। एसोसिएशन ने डीलर मार्जिन में वृद्धि करने, पूरे राजस्थान में पेट्रोल-डीजल के मूल्य एक होने, एक्साइज ड्यूटी में कमी कर पूर्व में तय गई प्राइसिंग के अनुरूप करने सहित अन्य मांगों को लेकर राजस्थान पेट्रोलियम डीलर एसोसिएशन द्वारा यह निर्णय लिया गया।
ऑल हरियाणा पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन तेल कंपनियों द्वारा कमीशन न बढ़ाए जाने का विरोध कर रही है। इस संबंध में एसोसिएशन पदाधिकारियों ने कहा कि सरकार और तेल कंपनियों की मनमानी से पंप डीलर्स को करोड़ों रुपये का घाटा हो रहा है। पिछले पांच साल से पंप डीलर्स का कमीशन तेल कंपनियों द्वारा नहीं बढ़ाया गया है, जबकि नियमानुसार हर छह महीने के बाद डीलर कमीशन बढ़ जाना चाहिए। इस संबंध में तेल कंपनियों ने लिखित में हमें दे रखा है।
राजस्थान और हरियाणा की तरह महाराष्ट्र- तमिलनाडु समेत कई राज्यों के डीलर्स ने इन मांगों को लेकर मंगलवार को डीजल-पेट्रोल न खरीदने और न ही बेचने का ऐलान किया है। आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने एक सप्ताह पहले ही जनता को राहत देते हुए पेट्रोल पर 8 रुपए और डीजल पर 6 रुपए प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी घटाने का फैसला किया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve − five =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।