RCom के कर्जदाताओं ने अनिल अंबानी और 4 अन्य निदेशकों का कंपनी से इस्तीफा किया नामंजूर

कंपनी ने कहा, आरकॉम के संबंधित निदेशकों को बताया जा रहा है कि उनके इस्तीफे स्वीकार नहीं किए गए हैं और उन्हें आरकॉम के निदेशक के नाते दायित्वों व जिम्मेदारियों का निर्वहन जारी रखने का सुझाव दिया जाता है।

दिवाला समाधान प्रक्रिया के तहत चल रही निजी क्षेत्र की दूर संचाकार कंपनी रिलायंस कम्यूनिकेशंस के कर्जदाताओं ने चेयरमैन अनिल अंबानी तथा चार अन्य निदेशकों का कंपनी से इस्तीफा नामंजूर कर दिया और उन्हें जारी दिवाला एवं ऋणशोधन प्रक्रिया में सहयोग करने का निर्देश दिया। कंपनी ने रविवार को बीएसई को इसकी जानकारी दी। 
अंबानी समेत कंपनी के चार निदेशकों रायना करानी, छाया विरानी, मंजरी काकेर तथा सुरेश रंगाचार ने इस महीने की शुरुआत में कंपनी से इस्तीफा दे दिया था। कंपनी ने बाजार को बताया है कि उसके कर्जदाताओं की समिति की 20 नवंबर को बैठक हुई। ‘‘समिति ने एकमत से यह निर्णय किया कि ये इस्तीफे स्वीकार नहीं किए जा सकते।’’ 

महाराष्ट्र के राजनीतिक घटनाक्रम पर निवेशकों की रहेगी नजर

कंपनी ने कहा, ‘‘आरकॉम के संबंधित निदेशकों को बताया जा रहा है कि उनके इस्तीफे स्वीकार नहीं किए गए हैं और उन्हें आरकॉम के निदेशक के नाते दायित्वों व जिम्मेदारियों का निर्वहन जारी रखने का सुझाव दिया जाता है। उन्हें दिवाला एवं ऋणशोधन प्रक्रिया में सहयोग देने का निर्देश दिया गया है।’’ 
दूरसंचार क्षेत्र के विधायी बकायों पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद कंपनी को सितंबर तिमाही में 30,142 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है। यह किसी भारतीय कंपनी को एक तिमाही में हुआ दूसरा सबसे बड़ा घाटा है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 − eight =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।