अग्निपथ योजना : भारत बंद का असर, गुरुग्राम से नोएडा तक भीषण ट्रैफिक जाम, सड़कों पर रेंगती गाड़ियां

भारत बंद के मद्देनजर राजधानी में सभी एंट्री पॉइंट पर दिल्ली पुलिस ने चेकिंग और सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है, जिसके चलते नोएडा, गुरुग्राम बॉर्डर्स पर वाहनों का हुजूम नजर आ रहा है।

‘अग्निपथ’ योजना के खिलाफ विभिन्न संगठनों द्वारा ‘भारत बंद’ के आह्वान का असर दिखाई देने लगा है। दिल्ली से सटी सीमाओं पर बैरिकेडिंग के चलते भयंकर जाम की स्थिति पैदा हो गयी है। राजधानी में सभी एंट्री पॉइंट पर दिल्ली पुलिस ने चेकिंग और सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है, जिसके चलते नोएडा, गुरुग्राम बॉर्डर्स पर वाहनों का हुजूम नजर आ रहा है।
भारत बंद के चलते सुबह से ही ट्रैफिक स्लो रहा जो बाद में जाम में बदल गया। गुरुग्राम से लेकर नोएडा तक दिल्ली की सभी सीमाओं पर कई-कई किलोमीटर लंबा जाम लगा है। हजारों गाड़ियां सिर्फ रेंगती हुई नजर आ रही हैं। सीमा के साथ-साथ दिल्ली के अंदर भी भारत बंद का असर दिखाई दे रहा है।
1655706744 cars
सरहौल बॉर्डर पर वाहनों की लंबी कतारें
दिल्ली-गुरुग्राम एक्सप्रेसवे पर सरहोल सीमा पर भारी ट्रैफिक है। यहां दिल्ली पुलिस अग्निपथ योजना के खिलाफ बुलाए गए भारत बंद के मद्देनजर वाहनों की जांच कर रही है। इससे सरहौल बॉर्डर पर वाहनों की लंबी कतारें दिखाई दे रही है। दिल्ली पुलिस सुबह साढ़े सात बजे से ही वाहनों की जांच कर रही थी। इस दौरान दिल्ली में भारी वाहनों के प्रवेश पर रोक रही।
1655706683 delhi noida
दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर फंसी गाड़ियां
दिल्ली-नोएडा बॉर्डर पर भी पुलिस सुबह से गाड़ियों की जांच में जुटी है। एक्सप्रेसवे, महामाया फ्लाइओवर, फिल्म सिटी तक हजारों गाड़ियां फंसी हुई हैं। इस दौरान ऑफिस जाने वाले लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। अग्निपथ का विरोध कर रहे संगठनों के दिल्ली कूच के ऐलान के मद्देनजर दिल्ली पुलिस बिना चेकिंग वाहनों को राजधानी में प्रवेश नहीं करने दे रही है। इससे सरहोल बॉर्डर से लेकर एटलस चौक, दिल्ली-नोएडा लिंक रोड, दिल्ली-नोएडा-डायरेक्ट फ्लाईवे, चिल्ला बॉर्डर पर वाहनों की लंबी कतार वाहन नजर आ रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

11 − nine =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।