दिल्ली : कोरोना काबू आने के बाद आज से खुले कुतुब मीनार-लाल किला, जानें क्या है नियम

राजधानी में कोरोना संक्रमण काबू में आने के बाद बुधवार से भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा संरक्षित ऐतिहासिक भवन, स्मारक स्थल और संग्रहालय आज से पर्यटको के लिए खोल दिये गए हैं।

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए ऐतिहासिक भवन, स्मारक स्थल और संग्रहालय को 16 अप्रैल से पर्यटको के लिए बंद कर दिया गया था। राजधानी में कोरोना संक्रमण काबू में आने के बाद बुधवार से भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा संरक्षित ऐतिहासिक भवन, स्मारक स्थल और संग्रहालय आज से पर्यटको के लिए खोल दिये गए हैं। पुरातत्व विभाग ने पर्यटको की संख्या कम की है। एक दिन में केवल सीमित संख्या में ही पर्यटक स्मारक में प्रवेश कर सकेंगे
पुरातत्व विभाग ने आगुंतकों की संख्या पर अंकुश लगाते हुए इनकी संख्या को कम कर दिया है। यानी एक दिन में केवल सीमित संख्या में ही पर्यटक स्मारक में प्रवेश कर सकेंगे कोरोना महामारी के कारण एएसआई ने 15 जून तक इन्हें बंद करने का निर्णय लिया था। हालांकि इन स्मारकों में पहले दिन ज्यादा पर्यटक नजर नहीं आए। हालांकि, पर्यटकों में स्मारकों के खुलने की खुशी देखी जा सकती थी।
कुतुब मीनार और लालकिला परिसर को पर्यटकों के आने से पहले सैनिटाइज किया गया था, इतना ही नहीं पहले की तरह लोग किला परिसर पहुंचकर भारतीय संग्रहालय और पेटीएम के सहयोग से लगाए गए क्यूआर कोड से भी ई-टीकट बुक कर सकेंगे। पर्यटकों को परिसर में अनिवार्य रूप से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा।साथ ही परिसर में दाखिल होने से पहले पर्यटकों की थर्मल स्क्रीनिंग की जाएगी। तापमान सामान्य होने पर ही परिसर में जाने दिया जाएगा।
लालकिले में कार्यरत अधिकारियों ने बताया कि, सुबह से ही पर्यटकों का आना जारी है, फिलहाल करीब 50 पर्यटक ही लाल किला का दीदार करने आये हैं। पर्यटकों को कोरोना नियमों का पालन करना होगा। अभी तक जितने भी पर्यटक आये है वह सभी यहीं के निवासी है, कोई विदेशी पर्यटक हमें नजर नहीं आया है।
सुबह से लोग अपने परिवार और परिजनों के साथ लाल किला और कुतुब मीनार देखने पहुंचे। दिल्ली निवासी शहजाद ने बताया, लंबे वक्त से लाल किला बंद था, वहीं कोरोना महामारी के कारण घरों में ही हम लोग बैठे हुए थे। लेकिन जब मामले कम हो रहे हैं तो ये एक अच्छा फैसला लिया गया है। लाल किला और अन्य स्मारक घूमने से इंसान को मानसिक रूप से भी आराम मिलेगा।
कुतुब मीनार का दीदार करने पहुंचे अर्चित ने बताया, हम लोग बहुत लंबे वक्त से कुतुब मीनार खुलने का इंतजार कर रहे थे। हालांकि नेटवर्क की दिक्कत होने के कारण ऑनलाइन टिकट के करने में थोड़ी समस्या जरूर हुई, लेकिन कुछ देर बाद हमारी टिकट बुक हो गई। फिलहाल घूम रहे हैं । यदि समय बचता है तो अन्य स्मारकों का भी दीदार करने जाएंगे।
सोमवार को ही केंद्रीय मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने ट्वीट करते हुए कहा था, मंत्रालय ने एएसआई के सभी स्मारकों को 16 जून 2021 से विधिवत खोलने की स्वीकृति प्रदान की है। पर्यटक कोरोना नियमों का पालन करते हुए स्मारकों का भ्रमण कर सकते हैं। सभी को शुभकामनाएँ । हालांकि एसएआई ने पहले 16 अप्रैल से लेकर 15 मई तक के लिए सभी केंद्रीय संरक्षित स्मारक बंद करने का आदेश दिया था। इसके बाद एसएसआई ने 12 मई को एक बार फिर इन्हे 15 जून तक बंद रखने के लिए आदेश जारी कर दिया था।
दिल्ली स्थित हुमायूं का मकबरा, अब्दुल रहीम खान-एखाना का मकबरा व दूसरे महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थलों को लोगों के दीदार के लिए बुधवार से खोल दिया गया है। एएसआई के देशभर में 3693 संमारक और 50 संग्रहालयों को खोलने का आदेश दिया गया है। हालांकि, परिस्थितियों के मुताबिक इन्हें खोलने का अंतिम निर्णय जिला प्रशासन के पास होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ten + 8 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।