GL ने बेबुनियादी आधार पर 244 प्रधानाचार्यों की नियुक्ति रोकी : सिसोदिया

दिल्ली के शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने LG को घेरते हुए उपराज्यपाल वी के सक्सेना पर प्रधानाचार्यों की नियुक्ति रोकने का आरोप लगाया है।

दिल्ली सरकार तथा उपराज्पाल के बीच अक्सर नोक-झोंक का सिलसिला चलता रहता है। दिल्ली के शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने LG को घेरते हुए उपराज्यपाल वी के सक्सेना पर प्रधानाचार्यों की नियुक्ति रोकने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि, ‘बेबुनियादी आधार’’ पर 244 प्रधानाचार्यों की नियुक्ति रोकी गई है। इससे एक दिन पहले सक्सेना ने सरकारी स्कूलों में प्रधानाचार्यों और उप शिक्षा अधिकारियों के 126 पदों को बहाल करने की मंजूरी दे दी थी जो पिछले दो साल से अधिक समय से ‘‘खाली’’ पड़े हुए थे।
सेवा विभाग पर असंवैधानिक रूप से नियंत्रण कर लिया है
जानकारी के अनुसार, सिसोदिया ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘उन्होंने सेवा विभाग पर असंवैधानिक रूप से नियंत्रण कर लिया है। 370 पद खाली पड़े हैं और इन 370 में से 126 को एलजी साहब ने मंजूरी दे दी है। बाकी के लिए उन्होंने हमसे एक अध्ययन कराने के लिए कहा है। मैं एलजी साहब से पूछना चाहता हूं : ये स्कूल उप-प्रधानाचार्यों की मदद से चल रहे हैं। हम किसी प्रधानाचार्य की व्यवहार्यता पर अध्ययन कैसे करा सकते हैं?’’ उन्होंने कहा कि वह इस मामले पर सक्सेना को पत्र भी लिखेंगे लेकिन उन्होंने उपराज्यपाल से ‘‘बेबुनियादी आधार’’ पर बाकी के पदों पर नियुक्ति न रोकने का अनुरोध किया।
एलजी साहब, कृपया इसका मजाक न बनाइए : उपमुख्यमंत्री
उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘यह असंवेदनशील तथा दुर्भाग्यपूर्ण है। एलजी साहब, कृपया इसका मजाक न बनाइए। अगर सेवा विभाग का नियंत्रण दिल्ली सरकार के पास होता तो ये पद बहुत पहले ही भर जाते। अगर अध्ययन की आवश्यकता है तो आप इस पर अध्ययन करा सकते हैं कि उपराज्यपाल की आवश्यकता है या नहीं।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × two =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।