गोपाल राय ने पीएम मोदी से राष्ट्रपति भवन के सामने स्वतंत्रता सेनानियों के वास्ते स्मारक बनाये जाने का आग्रह किया

दिल्ली के कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से देश के स्वतंत्रता आंदोलन के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए राष्ट्रपति भवन के सामने एक स्मारक बनाने का आग्रह किया

दिल्ली के कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से देश के स्वतंत्रता आंदोलन के शहीदों को श्रद्धांजलि देने के लिए राष्ट्रपति भवन के सामने एक स्मारक बनाने का आग्रह किया। गोपाल राय ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो संदेश पोस्ट कर कहा कि देश की आजादी के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले स्वतंत्रता सेनानियों के लिए कोई समर्पित स्मारक नहीं है। उन्होंने कहा कि इंडिया गेट प्रथम विश्व युद्ध के दौरान शहीद हुए सैनिकों की याद में अंग्रेजों द्वारा बनवाया गया था और इंडिया गेट पर देश के स्वतंत्रता आंदोलन के एक भी शहीद का नाम नहीं है।
उन्होंने कहा, ‘‘देश आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है लेकिन इतने सालों में हम स्वतंत्रता संग्राम के अपने शहीदों के वास्ते समर्पित स्मारक भी नहीं बना सके। मैं आपसे (नरेन्द्र मोदी) शहीद स्वतंत्रता सेनानियों के लिए एक राष्ट्रीय स्मारक बनाने का अनुरोध करता हूं।’’ आम आदमी पार्टी (आप) के नेता राय ने अपने वीडियो संदेश में कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है कि आप राष्ट्रपति भवन के सामने शहीद स्वतंत्रता सेनानियों के लिए एक स्मारक का निर्माण करायेंगे और 15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) और 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) पर हमारे लाखों शहीद स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि देने की एक नई परंपरा शुरू करेंगे।’’ 
उन्होंने कहा, ‘‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि हमारी सरकारें स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि देने के बजाय पिछले 75 वर्षों से स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के अवसर पर इंडिया गेट पर श्रद्धांजलि अर्पित कर रही हैं।’’ राय ने कहा, ‘‘हमें स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के अवसर पर स्वतंत्रता सेनानियों को उनके स्मारक पर श्रद्धांजलि देनी चाहिए क्योंकि उनके सर्वोच्च बलिदान के कारण देश अंग्रेजों से मुक्त हुआ था।’’ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 − ten =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।