शराब नीति : BJP ने जारी किया स्टिंग ऑपरेशन, सिसोदिया और केजरीवाल को बताया शराब के दलाल

नई शराब नीति में हुए घोटाले को लेकर बीजेपी लगातार दिल्ली सरकार और आप पार्टी को निशाने पर ले रही है। बीजेपी ने एक स्टिंग ऑपरेशन जारी कर दिल्ली सरकार, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया पर बड़े आरोप लगाए हैं।

नई शराब नीति में हुए घोटाले को लेकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) लगातार दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी (Aam Admi Party) को निशाने पर ले रही है। बीजेपी ने आज एक स्टिंग ऑपरेशन जारी कर दिल्ली सरकार, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया पर बड़े आरोप लगाए हैं। हालांकि हम इस वीडियो की पुष्टि नहीं करते हैं।
क्या है BJP द्वारा जारी Video में
स्टिंगऑपरेशन का वीडियो जारी कर बीजेपी ने दावा किया है कि वीडियो में राज उगल रहा शख्स शराब घोटाले में सीबीआई के आरोपी नंबर 13 सनी मरवाह के पिता कुलविंदर मरवाह हैं। स्टिंग में कुलविंदर कहते हैं इस काम में 80 फीसदी प्रॉफिट का गेम है। यानी 1 रु. के माल में 80 पैसे हमारे होते हैं, सिर्फ 20 पैसे का माल होता है। तो  फिर एक के साथ एक देने में हमें डर क्या है।


इस बीच वीडियो बनाने वाला शख्स कुलविंदर से पूछता है कि इतनी कमाई कैसे होती है? सवाल के जवाब में कुलविंदर कहते हैं, इसमें एक चाल चली गई है।  चाल ये है कि 20 का माल लेकर आप चाहे जितने भी दाम में बेचो, बाकि फिक्स पैसे दे दो हमसे तो 253 करोड़ रुपए ले लिए गए। अब जितनी मर्जी चाहे दुकानें खोलों, जो मर्जी चाहे करो। 

ब्लैक लिस्टेड कंपनियों को ठेका क्यों? 
बीजेपी मुख्यालय में स्टिंग ऑपरेशन के इस वीडियो को जारी करते हुए बीजेपी राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि शराब घोटाले में सीबीआई के आरोपी नंबर 13 सन्नी मारवाह के पिता कुलविंदर मारवाह इस स्टिंग वीडियो में यह साफ-साफ कहते नजर आ रहे हैं कि कमीशन का पैसा अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया को दिया गया। 
संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि इस घोटाले में मोटा माल केजरीवाल और सिसोदिया ने कमाया है। उन्होंने कहा कि हम लगातार केजरीवाल और सिसोदिया से यह सवाल पूछ रहे थे कि ठेकेदारों को मिलने वाले कमीशन को 2 से 12 प्रतिशत क्यों कर दिया? बिना कैबिनेट की मंजूरी के अपने चहेते ठेकेदारों के 144 करोड़ रुपये क्यों माफ किए? ब्लैक लिस्टेड कंपनियों को ठेका क्यों दिया गया? 
उनकी तरफ से इन सवालों का कोई जवाब नहीं आया लेकिन स्टिंग मास्टर (केजरीवाल) के इस स्टिंग से यह साबित हो गया कि जो लोग भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ने की शपथ खाकर आए थे वो आज कट्टर भ्रष्टाचारी पार्टी के रूप में सामने आए हैं और यह भी सच साबित हो गया कि यह बेवड़ी सरकार है।
नई शराब नीति से मची लूट का आज हुआ खुलासा
बीजेपी प्रवक्ता ने कहा कि इस स्टिंग वीडियो से यह भी साफ नजर आ रहा है कि किस प्रकार लोग मोटी दलाली देने के लिए केजरीवाल और सिसोदिया के पास जाते थे और मोटा कमीशन लेकर इन लोगों ने अपने मुनाफे के लिए और दिल्ली को नुकसान में ढकेलने के लिए नई आबकारी नीति लेकर आए।
इस स्टिंग का हवाला देते हुए पात्रा ने कहा कि नई शराब नीति से जो लूट मची हुई थी उसका आज खुलासा हो गया है। 80 प्रतिशत फायदे की राशि को दिल्ली की जनता की जेब से निकाल कर मनीष सिसोदिया और अरविंद केजरीवाल ने दलाली के माध्यम से अपनी जेब में डाला। ठेकेदारों से कमीशन लेने के बाद केजरीवाल और सिसोदिया ने अपने मित्रों को खुली छूट दे दी कि उन्हें दिल्ली की जनता के साथ जो करना है करें। ब्लैक लिस्टेड कंपनियों को बुला-बुला कर ठेके दिए गए। पूरे मामले में व्हाइट मनी को ब्लैक मनी में कन्वर्ट कर केजरीवाल और सिसोदिया तक पैसा पहुंचाया जाता था।
दूध का दूध और शराब का शराब
पात्रा ने शराब के ठेके लेने वाले अन्य कारोबारियों से भी सामने आकर बिना डरे वीडियो जारी करने का भी आह्वान किया।बीजेपीमुख्यालय में स्टिंग ऑपरेशन दिखाने के बाद आम आदमी पार्टी पर निशाना साधते हुए दिल्ली से लोक सभा सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि केजरीवाल सरकार से जितने सवाल हम पूछते थे, उन सभी सवालों के जवाब इस स्टिंग ऑपरेशन के जरिए मिल गया है और आज ये भी साफ हो गया है कि जो रेवेन्यू दिल्ली सरकार को आता था वो क्यों शराब व्यापारियों को दिया जाता था, क्योंकि यह पैसा भ्रष्टाचार के जरिए घुमकर इन्ही की जेब में जाता था। 
स्टिंग ऑपरेशन का वीडियो जारी करते हुए उन्होंने कहा कि दूध का दूध और शराब का शराब जारी है .. जल्द सिसोदिया और फिर भ्रष्टाचारी केजरीवाल की भी बारी है। AAP तो झूठ बोलते हो हमने तो स्टिंग दिखा भी दिया और नाम भी बता रहे है .. तो अब CM साहेब शर्म करो और तत्काल इस्तीफ़ा दो। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार से जितने सवाल हम करते थे, उन सभी सवालों के जवाब इन स्टिंग ऑपरेशन ने दे दिया है।आज ये भी स्पष्ट हो गया कि जो रेवेन्यू दिल्ली सरकार को आता था वो क्यों शराब व्यापारियों को दिया जाता था, क्योंकि वो भ्रष्टाचार में घुमकर इनके पास जाना होता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × 2 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।