निर्भया के दोषियों को फांसी देने की तैयारियां पूरी, जल्लाद ने चौथी बार डमी पर किया ट्रायल

निर्भया गैंगरेप एवं हत्या मामले के चारो दोषियों को 20 मार्च को तिहाड़ जेल में फांसी देने की तैयारियां चौथी बार फिर जोर-शोर से शुरू हो गई हैं।

निर्भया गैंगरेप एवं हत्या मामले के चारो दोषियों को 20 मार्च को तिहाड़ जेल में फांसी देने की तैयारियां चौथी बार फिर जोर-शोर से शुरू हो गई हैं। इसी क्रम में मंगलवार को यूपी के मेरठ से जल्लाद पवन को भी तिहाड़ अधिकारी सुरक्षित ले आये। जल्लाद ने बुधवार को तिहाड़ जेल अधिकारियों की मौजूदगी में फांसी देने का ‘डमी-ट्रायल’ भी किया। 
बुधवार को तिहाड़ में जल्लाद पवन द्वारा ‘डमी-ट्रायल’ किये जाने की पुष्टि दिल्ली जेल के अपर महानिरीक्षक राज कुमार ने की। अपर महानिरीक्षक दिल्ली जेल के मुताबिक, “बुधवार को किया गया डमी ट्रायल रुटीन प्रक्रिया है। निर्भया के मुजरिमों को फांसी देने के लिए पहली बार किये जा रहे डमी ट्रायल के वक्त हमारी चिंता ज्यादा थी।”
अपर महानिरीक्षक जेल राज कुमार ने आगे बताया, “बुधवार को डमी ट्रायल तिहाड़ की तीन नंबर जेल परिसर में स्थित फांसी घर में किया गया। डमी ट्रायल के दौरान यूं तो मुख्य कार्य पवन (जल्लाद) का ही था। इसके बाद भी एहतियातन तिहाड़ जेल के संबंधित अधिकारी-कर्मचारी भी इस डमी ट्रायल के दौरान मौजूद रहे।”
डमी ट्रायल के दौरान पवन जल्लाद और फांसी घर में मौजूद जेल अफसरों ने आखिर क्या-क्या जांचा? पूछे जाने पर एआईजी जेल ने कहा, “दौरान-ए-फांसी कहीं कोई व्यवधान उत्पन्न होने की कहीं कोई आशंका न रहे। मुख्य काम तो पवन को ही करना है। लिहाजा ऐसे में उन्हें ही सारे इंतजाम एक बार फिर से देखने थे। इसलिए जेल प्रशासन ने उनके (पवन जल्लाद) कहे मुताबिक डमी-ट्रायल का इंतजाम किया था। यह डमी ट्रायल अब से थोड़ी देर पहले ही किया गया। डमी ट्रायल करीब आधा घंटा चला।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen + fifteen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।