गणतंत्र दिवस हिंसा: लाल किले की गुंबद पर चढ़ने वाला व्यक्ति दिल्ली के स्वरूप नगर से गिरफ्तार

दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के दौरान कथित तौर पर लाल किले के गुंबद पर चढ़ने वाले 29 वर्षीय एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है।

दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा के दौरान कथित तौर पर लाल किले के गुंबद पर चढ़ने वाले 29 वर्षीय एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। जसप्रीत सिंह नाम का यह शख्स पिछले मंगलवार को गिरफ्तार मनिंदर सिंह का सहयोगी है। 
मनिंदर पर इस ऐतिहासिक स्मारक पर प्रदर्शनकारियों को “प्रेरित” और “आक्रोशित” करने के लिये कथित तौर पर तलवार लहराने का आरोप है। उत्तर पश्चिम दिल्ली के स्वरूप नगर में रहने वाले जसप्रीत सिंह को अपराध शाखा के दल ने शनिवार को गिरफ्तार किया था। 
केंद्र के तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त किये जाने की मांग को लेकर 26 जनवरी को किसान संघों द्वारा आयोजित ट्रैक्टर परेड के दौरान हजारों प्रदर्शनकारी पुलिस से भिड़ गए थे। कई प्रदर्शनकारी ट्रैक्टर चलाते हुए लालकिले तक पहुंच गए थे और स्मारक में घुस गए। इस दौरान कुछ प्रदर्शनकारियों ने लाल किले के ध्वजस्तंभ पर एक धार्मिक झंडा भी फहराया था। 
एक अधिकारी ने कहा, “जसप्रीत सिंह वह शख्स है जो आरोपी मनिंदर सिंह के पीछे खड़ा था और लाल किले की प्राचीर के दोनों तरफ स्थित गुंबदों में से एक पर चढ़ा था।” उन्होंने कहा कि एक तस्वीर में वह लाल किले पर आक्रामक मुद्रा में भी नजर आ रहा है।” 
पुलिस के मुताबिक मनिंदर सिंह (30) ने पड़ोस में रहने वाले छह लोगों को सिंघू बॉर्डर से मुकरबा चौक की तरफ आने वाली ट्रैक्टर परेड में आने के लिये “प्रेरित” किया था। पुलिस ने कहा कि जसप्रीत सिंह एक सहयोगी था और उसकी पहचान तस्वीरों और वीडियो से हुई जिसमें वह कथित तौर पर मनिंदर सिंह के पीछे खड़ा नजर आ रहा था। 
पुलिस ने बताया कि कार के एसी मेकैनिक के तौर पर काम करने वाले मनिंदर सिंह को पिछले हफ्ते उत्तर पश्चिम दिल्ली के पीतमपुरा से गिरफ्तार किया गया था। पुलिस के मुताबिक मनिंदर सिंह को एक वीडियो में लाल किले पर दो तलवारें लहराते हुए देखा गया जिसका मकसद “हिंसक राष्ट्र विरोधी तत्वों को ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों पर बर्बर हमले के लिये प्रेरित और उद्वेलित करना था।” 
पुलिस ने कहा था कि मनिंदर सिंह विभिन्न समूहों के “भड़काऊ” फेसबुक पोस्ट देखने के बाद कट्टरपंथ की तरफ झुका। पुलिस के मुताबिक वह अक्सर सिंघू बॉर्डर जाता था और वहां नेताओं द्वारा दिये जाने वाले भाषणों से “बेहद प्रेरित” था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 − thirteen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।