500 रुपए व बिरयानी के लिए पहुंच रहे शाहीन बाग

नागरिकता संशोधन कानून व एनआरसी के खिलाफ पिछले एक महीने से अधिक समय से तमाम महिलाएं दिल्ली के शाहीन बाग में धरना प्रदर्शन कर रही हैं।

नई दिल्ली : नागरिकता संशोधन कानून व एनआरसी के खिलाफ पिछले एक महीने से अधिक समय से तमाम महिलाएं दिल्ली के शाहीन बाग में धरना प्रदर्शन कर रही हैं। महिलाओं का यह धरना प्रदर्शन लगातार सुर्खियों में बना हुआ है। यहां महिलाएं अपने दुधमुंहे बच्चों के साथ प्रदर्शन कर रही हैं। 
महिलाएं लगातार नागरिकता संशोधन कानून को खत्म करने की मांग कर रही हैं और कह रही हैं कि वह नागरिकता के कागजात नहीं दिखाएंगी। लेकिन इस विरोध प्रदर्शन के बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया है, जिसमें सनसनी खेज दावा किया गया है। 
वायरल वीडियो में एक युवक ये आरोप लगा रहा है कि शाहीन बाग प्रदर्शन में शामिल महिलाएं शिफ्ट के तहत काम कर रही हैं। उन्हें एक शिफ्ट में 500 से 700 रुपए दिए जा रहे हैं। इसके अलावा चाय, नाश्ता और बिरयानी फ्री में दी जा रही है। इस वीडियो को लोगों ने जमकर शेयर किया है।
वीडियो में कुछ लोग कर रहे हैं आपस में बात
सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे वीडियो में दावा किया जा रहा है कि शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रही महिलाएं पैसों के लिए ये सब कर रही हैं। वीडियो में कुछ लोग आपस में बात कर रहे हैं और कह रहे हैं कि धरने में औरतें शिफ्ट में काम कर रही हैं और उन्हें हर रोज 500-700 रुपए दिए जा रहे हैं। यही नहीं इन महिलाओं को यहां पर बिरयानी खाने को मिल रही है। हालांकि जो वीडियो सामने आया है उसमें किसी का चेहरा नहीं दिखाया गया है। वीडियो में इन लोगों को आपस में बात करते हुए सुना जा सकता है।
चाय बिरयानी का इंतजाम… वीडियो में जो लोग आपस में बात कर रहे हैं वह कहते हैं कि धरने में बैठी महिलाओं के लिए चाय और बिरयानी का भी इंतजाम किया जाता है। इस वीडियो को साझा करते हुए भाजपा के तमाम नेताओं ने कांग्रेस पर निशाना साधा है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा और भाजपा आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने इस वीडियो को साझा करते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा है। हालांकि कई लोगों ने इस वीडियो को प्रोपेगेंडा वीडियो करार दिया है और इसकी सत्यता पर सवाल खड़ा किया है।
शिफ्ट में हो रहा काम… जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें युवक कहते हैं प्रदर्शनकारियों का लक्ष्य है कि हमेशा 1000 लोगों की भीड़ मौजूद रहनी चाहिए। इसके लिए लोगों को शिफ्ट में बुलाया जा रहा है। अगर पांच सौ महिलाएं धरना स्थल से जाती हैं तो 500 और महिलाएं वहां पहुंच जाती हैं। गौरतलब है कि अपनी मांगों को लेकर महिलाओं की मांग है कि नागरिकता संशोधन काननू को तुरंत वापस लिया जाए क्योंकि यह संविधान विरोधी है।
टॉप ट्रेंड पर # बिकाऊ प्रदर्शनकारी … 
वायरल वीडियो के बाद हैशटैग बिकाऊ प्रदर्शनकारी सोशल मीडिया के ट्विटर प्लेटफार्म पर जमकर ट्रेंड किया। कुछ ही मिनटों में 26 हजार से अधिक लोगों ने उक्त हैशटैग के साथ ट्वीट किया और प्रदर्शनकारियों के खिलाफ जहां अवाज उठाई, वहीं नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन किया। इसके अलावा हैशटैग महान औरतें शाहीन बाग की और हैशटैग सलाम महिला शक्ति शाहीन बाग जमकर ट्रेंड किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eleven + six =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।