सिंधिया के दौरे से भी नहीं बदले हालात, मछली बाजार बने हुए हैं एयरपोर्ट्स

देश के प्रमुख एयरपोर्ट्स में यात्रियों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। इससे कई जगहों पर यात्रियों को असुविधा का सामना भी करना पड़ रहा है। फ्लाइट का महंगा टिकट लेकर समय की बचत करना चाहते हैं लेकिन एयरपोर्ट्स में इतनी भीड़ हो रही है कि लोगों को साढ़े तीन घंटे पहले एयरपोर्ट बुलाया जा रहा है। आम तौर पर एयरपोर्ट्स शहर से काफी दूर बनाए जाते हैं। लोगों को यहां तक पहुंचने में एक घंटे से ज्यादा वक्त लग जाता है। ऐसे में दो घंटे के सफर के लिए 6 से 7 घंटे चेक इन और चेक आउट में ही बीत जाएंगे। विमान कंपनियां टिकट तो धड़ल्ले से बेंच रही हैं मगर लोगों को हो रही परेशानियों से बेखबर हैं। सोशल मीडिया पर लोग ऐसे कई वीडियोज अपलोड कर रहे हैं। 
नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने कई अधिकारियों को फटकार भी लगाई मगर हालात नहीं सुधरे। अभी भी लोगों को घंटों लाइन में खड़ा रहना पड़ रहा है। मंत्रालय ने सभी एयरलाइंस को अपने चेक-इन एवं बैगेज काउंटरों पर पर्याप्त संख्या में कर्मचारी तैनात करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही कंपनियों को हवाई अड्डों के एंट्री गेट पर इंतजार में लगने वाले समय के बारे में सोशल मीडिया पर जानकारी देने का सुझाव भी दिया है। बीते 10 दिनों में फ्लाइट से सफर करने वाले पैसेंसर्ज की संख्या रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई है।
छुट्टियों के कारण उमड़ी भीड़
सर्दियां शुरू हो गई हैं और एग्जाम के बाद बच्चों की भी विंटर वैकेशन शुरू हो जाती हैं। इस सीजन में लोग अपने परिवार के साथ घूमने निकलते हैं। दिल्ली सहित देश के प्रमुख एयरपोर्ट्स में अब जनवरी के पहले महीने में ही भीड़ कम होने की संभावना है। देश में डोमेस्टिक दैनिक यात्री पिछले दस दिनों से 4,00,000 से अधिक हैं। 11 दिसंबर को ये आंकड़ा 4,28,000 तक पहुंच गया, जोकि भारत में सबसे अधिक है।
एक दिन में 4,20,000 यात्रियों का रिकॉर्ड
इससे पहले एक दिन में 4,20,000 यात्रियों का रिकॉर्ड था। जिसे देश ने मार्च 2020 में कोविड के दौरान देखा था। इस साल पहली बार प्रतिदिन घरेलू यात्रियों की संख्या लगातार 4,00,000 से अधिक रही है। मंत्रालय ने एयरलाइन कंपनियों को यह सुझाव हाल ही में दिल्ली हवाई अड्डे पर यात्रियों की भीड़ बढ़ने की शिकायतें सामने आने के बाद दिया है। दिल्ली हवाई अड्डे पर यात्रियों को प्रवेश करने के लिए कई घंटों तक इंतजार करना पड़ रहा है जिससे वहां पर काफी असहज स्थिति पैदा होने लगी है। इस समस्या को दूर करने के लिए कई तरह के कदम उठाए जा रहे हैं।
यात्रियों को भारी असुविधा
नागर विमानन मंत्रालय ने कहा कि कुछ हवाई अड्डों पर सुबह की उड़ानों के समय एयरलाइंस के चेक-इन काउंटरों पर या तो कोई भी कर्मचारी तैनात नहीं रहता है या फिर उनकी संख्या अपर्याप्त रही है। इसकी वजह से वहां पर भीड़भाड़ की स्थिति बन जाती है और यात्रियों को भारी असुविधा की स्थिति का सामना करना पड़ता है। इस समस्या को दूर करने के लिए मंत्रालय ने कहा, अधिसूचित एयरलाइंस को अपने सभी चेक-इन एवं बैगेज काउंटरों पर पहले से ही पर्याप्त संख्या में कर्मचारी तैनात करने का सुझाव दिया जाता है।
कोरोना वक्त का भी टूटा रिकॉर्ड
इसके अलावा एयरलाइंस से हवाई अड्डे के प्रवेश द्वार पर लग रहे समय के बारे में जानकारी सोशल मीडिया मंचों पर जारी करने को भी कहा गया है। इस जानकारी की मदद से यात्री हवाई अड्डों पर समय से पहले पहुंचकर चेक-इन करा सकते हैं। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक, घरेलू हवाई यातायात इन दिनों उफान पर है। अकेले 12 दिसंबर को ही देशभर में 4।18 लाख से अधिक लोगों ने हवाई यात्रा की।
लोगों ने की शिकायतें
बढ़ती डिमांड और यात्रियों की भीड़ के कारण लोगों को भारी परेशानी का सामान करना पड़ रहा है। कई यात्रियों ने शिकायत की है कि व्यवस्था में कमी होने के कारण उनकी उड़ाने तक मिस हो गई। एक सरकारी अधिकारी ने कहा है कि उड्डयन मंत्री के ज्योतिरादित्य सिंधिया के दिल्ली एयरपोर्ट दौरे के बाद स्थिति कुछ सामान्य हो जाएगी, लेकिन जनवरी के पहले सप्ताह तक छुट्टियों पर जाने वाले यात्रियों की संख्या कम होने के बाद स्थिति पूरी तरह सामान्य होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय स्थिति की निगरानी कर रहा है।
लगभग सभी फ्लाइट्स फुल
एक अन्य आधिकारिक ने बताया कि एयरलाइनों को प्रतिदिन 3,200 उड़ानें संचालित करने की अनुमति दी गई है, लेकिन एयरलाइंस 2,800 से अधिक उड़ानें संचालित कर रही हैं। यात्रियों की संख्या में वृद्धि हुई है, जिसके कारण उड़ानें लगभग भरी हुई हैं। कई एयरलाइंस रिकॉर्ड लोड फैक्टर (उड़ानों में सीटों का प्रतिशत) की रिपोर्ट कर रही हैं। सिंधिया ने सोमवार को हवाई अड्डों, एयरलाइनों और एजेंसियों के साथ विचार-विमर्श किया और कई उपायों की घोषणा की। सरकार ने एक आदेश जारी कर एयरलाइनों से यह सुनिश्चित करने को कहा कि हवाईअड्डों पर उनके काउंटर पर हमेशा कर्मचारी हों।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + nineteen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।