दो गोली मारकर हैदराबाद में लूटा था सोना, दिल्ली पुलिस ने किया गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने कुछ समय पहले हैदराबाद में हुई डकैती की घटना में शामिल गैंग के शार्प शूटर को राजधानी से गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार डकैत का नाम संदीप उर्फ मनीष है

दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने कुछ समय पहले हैदराबाद में हुई डकैती की घटना में शामिल गैंग के शार्प शूटर को राजधानी से गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार डकैत का नाम संदीप उर्फ मनीष है। गिरफ्तार डकैत राजधानी के कुख्यात नंदू गैंग का खतरनाक शूटर है। झज्जर हरियाणा के रहने वाले गिरफ्तार संदीप और उसके साथियों ने, कुछ समय पहले ही चैतन्यापरी इलाके में हैदराबाद स्थित एक ज्वैलरी शॉप में डाका डाला था। जिसमें उसने ज्वैलर के ऊपर गोली भी चलाई थी। दो लोगों को गोली मारने के बाद डकैतों का यह गैंग 3-4 किलोग्राम सोना और नकदी लूट ले जाने में सफल रहे थे। उस घटना के सिलसिले में तब तेलंगाना पुलिस ने डकैती, हत्या की कोशिश, शस्त्र अधिनियम के तहत थाना चैतन्यापरी में मुकदमा दर्ज किया था।
दुकान का शटर बंद कर डकैटी की घटना को दिया था अंजाम
गिरफ्तार बदमाश के कब्जे से एक मोटरसाइकिल भी बरामद हुई है। जो उसने कुछ वक्त पहले ही आपराधिक वारदातों को अंजाम देने के लिए चुराई थी। तेलंगाना में ज्वैलरी शॉप डाका कांड में संदीप के साथ उसके साथी डाकू शुभम उर्फ मानिया, सुमित डागर भी थे। इन सबने मिलकर, चैतन्यपुरी, हैदराबाद (तेलंगाना) में स्थित महादेव ज्वैलरी शॉप पर धावा बोल दिया था। डकैतों ने दुकान का शटर अंदर से बंद करे डाके की उस घटना को अंजाम दिया था। विरोध से बौखलाए डाकूओं ने ज्वैलरी शॉप के भीतर इस हथियारबंद गिरोह के चंगुल में फंसे दो लोगों को गोली भी मार दी थी। डाका और गोलीकांड की उस घटना में तब ज्वैलर कल्याण चौधरी गंभीर रूप से जख्मी हो गया था। कल्याण चौधरी के सीने में और दूसरे ज्वैलर सुखदेव के चेहरे, हाथ और पांव पर गोली मारी गई थी।
दिल्ली के छावला इलाके से गिरफ्तार
गोलीकांड को अंजाम देने के बाद डाकू 3 से 4 किलोग्राम सोना और कैश लूट ले जाने में सफल रहे थे। डाके की उसी सनसनीखेज घटना में अब दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच द्वारा दिल्ली से गिरफ्तार संदीप उर्फ मनीष, दिल्ली के बाबा हरिदास नगर थाने में दर्ज मुकदमे में भी कोर्ट में पेश नहीं हो रहा था। उसके खिलाफ दिल्ली के मायापुरी, जाफरपुर कलां में भी मुकदमे दर्ज है। एक मुकदमे में उसके खिलाफ कोर्ट ने अगस्त सन् 2022 में गैर-जमानती वारंट भी निकाल दिए थे। अब दिल्ली में क्राइम ब्रांच द्वारा गिरफ्तार डकैत संदीप उर्फ मनीष के बारे में तेलंगाना पुलिस द्वारा हैदराबाद में गिरफ्तार और वारदात में शामिल एक बदमाश से ही जानकारी मिली थी। उसी ने बाकी डकैतों का नाम भी खोला था। संदीप उर्फ मनीष नाम के डकैत को दिल्ली के छावला इलाके से गिरफ्तार किया गया है।
डकैटी के लिए सारी हदें पार 
संदीप उर्फ मनीष ने बादली से ग्रेजुएशन किया हुआ है। उसके पिता दिल्ली नगर निगम से रिटायर हो चुके हैं। मां का सन् 2017 में निधन हो चुका है। दोनो बहनों की शादी हो चुकी है। सन् 2018 में संदीप, कपिल सांगवान उर्फ नंदू गैंग के बदमाश परमवीर गुलिया के संपर्क में आया था। तब उन दोनो ने हथियारों के बल पर एक कार लूटी थी। फिर वे दिल्ली के विकासपुरी में आकर छिप गए। और आपराधिक वारदातों को अंजाम देने लगे। 2019 में संदीप ने साथी बदमाशों के साथ मिलकर 1 करोड़ की फिरौती की मांग कर डाली। तरुण यादव से एक करोड़ की फिरौती वसूलने की कोशिश मे उसे धमकाने-डराने के लिए आरोपियों ने, उसके ऊपर गोलियां भी चलाई थीं। जेल में संदीप वहां पहले से बंद बदमाश सुमित डागर से मिला था। जेल में दोनो ने मिलकर कोई डाका डालने की योजना बनाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eight − six =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।