उत्तर भारत में कई स्थानों पर पारा 5 डिग्री सेल्सियस से नीचे दर्ज किया गया

उत्तर प्रदेश और पंजाब समेत उत्तर भारत के कई स्थानों पर रविवार को न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस से कम दर्ज किया गया। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने इस सप्ताह के बाद इस क्षेत्र के कुछ हिस्सों में शीतलहर चलने और घने कोहरे का अनुमान जताया है।

उत्तर प्रदेश और पंजाब समेत उत्तर भारत के कई स्थानों पर रविवार को न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस से कम दर्ज किया गया। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने इस सप्ताह के बाद इस क्षेत्र के कुछ हिस्सों में शीतलहर चलने और घने कोहरे का अनुमान जताया है।
ऊपरी हिमालयी क्षेत्र को प्रभावित करने वाले पश्चिमी विक्षोभ के कारण राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में न्यूनतम तापमान में रविवार को मामूली वृद्धि दर्ज की गई। 
मौसम विभाग ने कहा, ”28 से 29 दिसंबर तक पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में अलग-अलग इलाकों में बहुत अधिक शीतलहर चलने का अनुमान है। इन क्षेत्रों में घना कोहरा भी छाये रहने के आसार है।’’ 
दिल्ली के लिए आँकड़े प्रदान करने वाली सफदरजंग वेधशाला ने रविवार सुबह न्यूनतम तापमान छह डिग्री सेल्सियस दर्ज किया, जो शनिवार को 4.6 डिग्री सेल्सियस था। 
हालांकि, आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा कि राहत थोड़े समय के लिए होगी। 
कश्मीर में रविवार को शीतलहर और तेज हो गई तथा समूची घाटी में न्यूनतम तापमान शून्य से कई डिग्री सेल्सियस नीचे गिर गया। 
मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि 12 दिसंबर को हुई बर्फबारी के बाद से कश्मीर में मौसम शुष्क और सर्द बना हुआ है, जबकि रात का तापमान शून्य से नीचे रहा है। 
मौसम विभाग का अनुमान है कि घाटी में अगले तीन दिनों में हल्की बारिश और बर्फबारी हो सकती है। 
अधिकारियों के अनुसार, उत्तरी कश्मीर में गुलमर्ग में तापमान शून्य से 7.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया, जबकि उसके पिछली रात तापमान शून्य से 6.5 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा था। घाटी में गुलमर्ग सबसे ठंडा स्थान रहा। 
उन्होंने कहा कि कुपवाड़ा का न्यूनतम तापमान शून्य से 4.8 डिग्री सेल्सियस नीचे और कोकेरनाग का न्यूनतम तापमान शून्य से 4.9 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। 
वर्तमान में कश्मीर ‘चिल्लई कलां’ की चपेट में है। इस दौरान 40 दिनों तक भीषण सर्दी होती है।
पंजाब और हरियाणा में रविवार को भी कड़ाके की ठंड का दौर जारी रहा जबकि गुरदासपुर का न्यूनतम तापमान लुढ़क कर दो डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। 
मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि गुरदासपुर पंजाब का सबसे ठंडा स्थान रहा जबकि हरियाणा का सबसे ठंडा स्थान 3.3 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान के साथ नारनौल रहा। 
उन्होंने बताया कि हरियाणा के करनाल, रोहतक, अंबाला और हिसार में भी कड़ाके की ठंड पड़ रही है जहां पर न्यूनतम तापमान क्रमश: 3.8 डिग्री, 5.4 डिग्री, 4.6 डिग्री और 5.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 
दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी और केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में भी कड़ाके की ठंड पड़ रही है और रविवार को यहां का न्यूनतम तापमान 4.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 
पंजाब के पठानकोट, हलवारा और फरीदकोट में रविवार को न्यूनतम तापमान क्रमश: 3.7 डिग्री, 5.7 डिग्री और 4.6 डिग्री सेल्सियस रहा। 
पंजाब के अमृतसर, लुधियाना और पटियाला शहर भी सर्दी की चपेट में हैं जहां पर न्यूनतम तापमान क्रमश: 4.8 डिग्री, 4.2 डिग्री और 3.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 
हिमाचल प्रदेश के केलांग, काल्पा, मनाली, मंडी, सोलन, सुंदरनगर और भुंतर में तापमान शून्य से नीचे पहुंच गया। 
मौसम विभाग केन्द्र, शिमला, के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि केलांग राज्य में सबसे ठंडा स्थान रहा जहां तापमान शून्य से 11.6 डिग्री सेल्सियस नीचे रहा। उन्होंने बताया कि किन्नौर जिले के काल्पा और कुल्लू जिले के मनानी में न्यूनतम तापमान क्रमश: शून्य से 3.4 डिग्री और 0.6 डिग्री कम रहा। 
शीतलहर ने उत्तर प्रदेश में सर्दी बढ़ा दी है और पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य के ज्यादातर मंडलों में न्यूनतम तापमान सामान्य से कम रहा। 
आंचलिक मौसम केंद्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के कुछ हिस्सों में शीतलहर का प्रकोप रहा। इस अवधि में ज्यादातर मंडलों में न्यूनतम तापमान सामान्य से नीचे दर्ज किया गया। कुछ स्थानों पर घना कोहरा भी गिरा। 
रिपोर्ट के अनुसार पिछले 24 घंटों के दौरान उत्तर प्रदेश के वाराणसी, बरेली, गोरखपुर, अयोध्या, प्रयागराज, लखनऊ तथा बरेली मंडलों में न्यूनतम तापमान सामान्य से नीचे दर्ज किया गया। । 
मध्यप्रदेश विशेषकर राज्य के पश्चिमी क्षेत्र में 29 दिसंबर से इस महीने में दूसरी बार शीतलहर चलने का पूर्वानुमान है। 
आईएमडी भोपाल कार्यालय के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पी के साहा ने बताया कि राज्य के अधिकांश हिस्से में पिछले सप्ताह ठंड का प्रकोप देखा गया था , हालांकि पिछले कुछ दिनों में ठंड थोड़ी थम गई थी और न्यूनतम तापमान में कुछ हद तक बढ़ोतरी हुई थी। 
उन्होंने कहा, ‘‘मध्यप्रदेश में विशेष रूप से पश्चिमी भागों में मंगलवार से इस महीने दूसरी बार शीतलहर चलने का अनुमान है। ये स्थितियां उसके बाद अगले तीन से चार दिनों तक जारी रह सकती हैं।’’ 
उन्होंने कहा कि अगले सप्ताह अत्यधिक शीतलहर की संभावना नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 − 14 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।