उत्तर भारत के कई हिस्सों में हिमपात, अगले दो दिनों में पारा दो से तीन डिग्री लुढ़कने की आशंका

देश के उत्तरी भाग के कई हिस्सों में रविवार को हिमपात हुआ ,फलस्वरूप जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में कई स्थानों पर पारा शून्य के नीचे चला गया।

देश के उत्तरी भाग के कई हिस्सों में रविवार को हिमपात हुआ ,फलस्वरूप जम्मू कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में कई स्थानों पर पारा शून्य के नीचे चला गया। उधर, राष्ट्रीय राजधानी एवं मध्य प्रदेश समेत देश के कुछ अन्य क्षेत्रों में घना कोहरा छाया रहा, परिणामस्वरूप दृश्यता घट जाने से यातायात प्रभावित हुआ। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि पश्चिमोत्तर भारत में अगले तीन दिनों के दौरान न्यूनतम तापमान दो से तीन डिग्री सेल्सियस नीच जाने वाला है। 
मौसम विभाग ने कहा कि अगले दो दिनों के दौरान मध्य एवं पश्चिम भारत में न्यूनतम तापमान में किसी बड़े बदलाव की संभावना नहीं है लेकिन उसके बाद उसमें दो से चार डिग्री सेल्सियस गिरावट होगी। दिल्ली के कई हिस्सों में रविवार को घना कोहरा छाए रहने से दृश्यता कम हो गई जिससे यातायात प्रभावित हुआ। आईएमडी के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केंद्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि शनिवार को हुई बारिश की वजह से हवा में नमी बढ़ी, जिससे दिल्ली के कई हिस्सों में ‘घना’ कोहरा छाया रहा। 
दिल्ली के लिए आंकड़े प्रदान करने वाली सफदरजंग वेधशाला ने कोहरा रिकार्ड किया, जिससे सुबह में दृश्यता घटकर 200 मीटर रह गयी। श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘पालम मौसम केन्द्र में घने कोहरे से दृश्यता 100 मीटर रह गई।’’ उन्होंने बताया कि अगले दो दिन में ‘मध्यम से काफी घना कोहरा’ छाए रहने का अनुमान है। 
दिल्ली के कई हिस्सों में पश्चिमी विक्षोभ की वजह से हल्की बारिश हुई और पारा कुछ डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया। रविवार को न्यूनतम तापमान 11.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सोमवार को हवा की दिशा उत्तरपश्चिम होने के साथ तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से नीचे जाने का पूर्वानुमान है। इस बीच, कश्मीर घाटी में कई मौसम केंद्रों ने रात का तापमान शून्य से नीचे दर्ज किया। प्रसिद्ध स्की रिसॉर्ट गुलमर्ग जम्मू कश्मीर का सबसे ठंडा स्थान रहा, जहां पारा शून्य से 7.6 डिग्री नीचे चला गया। 
दक्षिण कश्मीर के पहलगाम में पारा शून्य से नीचे 3.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि कोकरनाग में रात का तापमान शून्य से नीचे 2.3 डिग्री सेल्सियस रहा। श्रीनगर में पारा 0.1 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम कार्यालय ने मौसम 20 दिसंबर तक शुष्क रहने और रात के तापमान में गिरावट आने की आशंका प्रकट की है। प्रशासन ने कुपवाड़ा और बांडीपुरा जिलों में ऊंचाई वाले स्थानों पर हिमस्खलन की मध्यम दर्जे की चेतावनी जारी की है। इस बीच, हिमाचल प्रदेश के कीलांग, कल्पा और मनाली में तापमान शून्य से नीचे रहा। राज्य के ऊंचे क्षेत्रों में पिछले 24 घंटे के दौरान ताजा बर्फबारी हुई। 
शिमला के मौसम केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि जनजातीय जिले लाहौल-स्पीति का कीलांग सबसे ठंडा स्थान रहा, जहां न्यूनतम तापमान शून्य के नीचे 10.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। डलहौजी और कुफरी में न्यूनतम तापमान 2.1 डिग्री सेल्सियस रहा। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में न्यूनतम तापमान 3.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 
उत्तर प्रदेश के पश्चिमी भाग में छिटपुट स्थानों पर हल्की वर्षा हुई जबकि पूर्वी हिस्सा शुष्क रहा। नजीबाबाद में वर्षा हुई। कुछ स्थानों पर घना से लेकर बेहद घना कोहरा छाया रहा। राज्य की राजधानी लखनऊ में न्यूतनम तापमान 11.6 डिग्री दर्ज किया गया जबकि इलाहाबाद में यह 15.4 डिग्री रहा। बांदा में पारा 9.2 डिग्री सेल्सियस तक लुढका। इटावा और नजीबाबाद नौ डिग्री सेल्सियस के न्यूनतम तामपान के साथ राज्य में सबसे ठंडे स्थान रहे। 
पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में रविवार को कोहरा छाया रहा। अमृतसर, लुधियाना, बठिंडा, पठानकोट और भिवानी समेत कई स्थानों पर सुबह घना कोहरा छाया रहा। अधिकतर स्थानों पर रात का तापमान सामान्य के करीब रहा। हरियाणा में, अंबाला और करनाल में न्यूनतम तापमान क्रमश: 11.1 और 10.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। भिवानी और नारनौल में रात में मौसम काफी ठंडा रहा और न्यूनतम तापमान क्रमश: 6.7 डिग्री और 7.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 
विभाग ने कहा कि पंजाब में, अमृतसर, लुधियाना और पटियाला में न्यूनतम तापमान क्रमश: 8.3, 10.5 और 11.3 डिग्री सेल्सियस रहा वहीं बठिंडा में न्यूनतम तापमान 8.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पश्चिमी मध्य प्रदेश में रविवार सुबह कोहरा छाया रहा वहीं राज्य के कई भागों में रुक-रुक कर हल्की बारिश जारी रही। मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के भोपाल कार्यालय के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पी के साहा ने बताया कि अरब सागर में बनी चक्रवात की स्थिति के कारण मध्यप्रदेश में पिछले तीन दिनों से हल्की बारिश जारी है। 
उन्होंने कहा कि भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर, शाजापुर, राजगढ़ एवं उज्जैन सहित पश्चिमी मध्यप्रदेश के कई इलाकों में रविवार सुबह घना कोहरा छाया रहा, जिससे दृश्यता कम हो गई। साहा ने बताया कि प्रदेश की राजधानी भोपाल में रविवार सुबह 10 बजे तक दृश्यता 300 मीटर तक थी। 
उन्होंने कहा कि पिछले 24 घंटों के दौरान भोपाल, होशंगाबाद, इंदौर एवं उज्जैन संभागों के जिलों में अनेक स्थानों पर और जबलपुर, शहडोल, रीवा, ग्वालियर एवं सागर संभागों के जिलों में कहीं-कहीं वर्षा हुई। साहा ने बताया कि पिछले 24 घंटों में कुक्षी में तीन सेंटीमीटर वर्षा दर्ज की गई, जबकि सरदारपुर, सेंधवा, खंडवा एवं पानसेमल में दो-दो सेंटीमीटर बारिश हुई। 
राजस्थान के अधिकतर स्थानों पर रविवार को अधिकतम तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई। रविवार को राज्य के उत्तर पश्चिम इलाकों गंगानगर, हनुमानगढ़, बीकानेर, चूरू और आसपास के जिलों में घना कोहरा छाया रहा। चूरू में सबसे कम दृश्यता 200 मीटर दर्ज की गई वहीं गंगानगर में दृश्यता 500 मीटर दर्ज की गई। गंगानगर में अधिकतम तापमान 12.9 डिग्री और न्यूनतम 9.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया। 

भारत का उदय अपने साथ प्रतिक्रियाएं भी लाएगा : एस जयशंकर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

10 − eight =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।