रेमडेसिविर की 9,600 शीशियां मप्र पहुंचीं, हवाई मार्ग के जरिए राज्य के अलग-अलग हिस्सों में भेजी गई

कोविड-19 की दूसरी लहर के घातक प्रकोप के बीच रेमडेसिविर दवा की कुल 9,600 शीशियां गुरुवार को पहुंचीं जहां से इन्हें सरकारी विमान और हेलिकॉप्टर के जरिए मध्य प्रदेश के अलग-अलग राज्य के हिस्सों में भेजा गया।

कोविड-19 की दूसरी लहर के घातक प्रकोप के बीच रेमडेसिविर दवा की कुल 9,600 शीशियां गुरुवार को पहुंचीं जहां से इन्हें सरकारी विमान और हेलिकॉप्टर के जरिए मध्य प्रदेश के अलग-अलग राज्य के हिस्सों में भेजा गया। अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 की जरूरी दवा की यह खेप महाराष्ट्र के नागपुर से ट्रक के माध्यम से इंदौर के देवी अहिल्याबाई होलकर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पहुंची। 
उन्होंने बताया कि हवाई अड्डे से इसे सरकारी विमान और हेलीकॉप्टर के जरिए प्रदेश के विभिन्न जिलों में भेजा गया।रेमडेसिविर के 200 बक्से इंदौर हवाई अड्डे पहुंचे जिनमें कुल 9,600 शीशियां हैं। हेलिकॉप्टर के माध्यम से इनमें से 42 बक्से भोपाल, सात बक्से रतलाम और चार बक्से खंडवा पहुंचाए गए।
इसी तरह सरकारी विमान से 19 बक्से ग्वालियर, 18 बक्से रीवा, 39 बक्से जबलपुर और 14 बक्से सागर पहुंचाए गए। रेमडेसिविर के 57 बक्से इंदौर के मरीजों के लिए रखे गए हैं जो राज्य में महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित जिला है। गौरतलब है कि कोविड-19 के मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली रेमडेसिविर की 9,600 शीशियां ऐसे वक्त मध्य प्रदेश पहुंचीं, जब राज्य में इस दवा की भारी किल्लत है और मरीजों के परिजन इसकी कालाबाजारी की शिकायतें भी कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 + 10 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।