लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

लोकसभा चुनाव पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

अमरावती विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. डी.एन. मालखेड़े का हुआ निधन

प्रसिद्ध शिक्षाविद और संत गाडगे बाबा अमरावती विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ दिलीप एन. मालखेड़े का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। अधिकारियों ने शनिवार को यहां यह जानकारी दी।

प्रसिद्ध शिक्षाविद और संत गाडगे बाबा अमरावती विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ दिलीप एन. मालखेड़े का लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों ने कहा कि वह 56 वर्ष के थे और एक साल से अधिक समय से ब्लड कैंसर से जूझ रहे थे और आज सुबह एक अस्पताल में उन्होंने अंतिम सांस ली। अधिकारियों ने बताया कि उनके परिवार में उनकी पत्नी और दो बेटे हैं।
पुणे के एक अस्पताल में उन्हें कराया भर्ती 
पिछले साल डॉ. मलखेड़े को ब्लड कैंसर का पता चला था और कई महीनों तक उनका इलाज चला। इसके बाद वे ठीक हो गए और फिर से काम पर लग गए।हालांकि कुछ समय पहले, उनकी फिर से तबीयत खराब हो गई, जिसके बाद उन्हें पुणे के एक अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया, जहां उनका निधन हो गया। अमरावती में गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से मैकेनिकल इंजीनियर की डिग्री लेने वाले डॉ. मालखेड़े ने आईआईटी बॉम्बे से पीएचडी की उपाधि प्राप्त की और शिक्षण, अनुसंधान और प्रशासन में अपना कार्य जारी रखा।
महाराष्ट्र के राज्यपाल और चांसलर भगत सिंह कोश्यारी ने कहा
बाद में उन्होंने इंजीनियरिंग कॉलेज, पुणे में मैकेनिकल इंजीनियरिंग के प्रोफेसर के रूप में सेवा की, और बाद में सितंबर 2021 में एसजीबीएयू के वीसी में नियुक्त होने से पहले उन्हें जून 2016 से एआईसीटीई में सलाहकार के रूप में प्रतिनियुक्ति पर भेजा गया था। महाराष्ट्र के राज्यपाल और चांसलर भगत सिंह कोश्यारी ने कहा कि डॉ. मालखेड़े के निधन के बारे में जानकर उन्हें दुख हुआ। उन्होंने शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की। राज्यपाल ने उनकी शैक्षणिक सेवाओं को याद किया और बताया कि कैसे उन्होंने विशेष रूप से उच्च शिक्षा में उत्कृष्टता लाने के लिए एसजीबीएयू के समग्र विकास में गहरी रुचि ली, और उनकी असामयिक मृत्यु शिक्षा के क्षेत्र के लिए एक बड़ी क्षति है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two + seventeen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।