Assam: सीएम शर्मा ने कहा- डिब्रूगढ़ विवि ने रैगिंग की घटना छिपाने की कोशिश की या नहीं, जांच पुलिस करेगी

असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने मंगलवार को कहा कि एम.कॉम के पहले सेमेस्टर के छात्र की कथित रैगिंग में डिब्रूगढ़ विश्वविद्यालय की ओर से “निश्चित रूप से लापरवाही” की गई है और पुलिस इस बात की जांच करेगी कि क्या विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने घटना को छिपाने की कोशिश की थी।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने मंगलवार को कहा कि एम.कॉम के पहले सेमेस्टर के छात्र की कथित रैगिंग में डिब्रूगढ़ विश्वविद्यालय की ओर से “निश्चित रूप से लापरवाही” की गई है और पुलिस इस बात की जांच करेगी कि क्या विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने घटना को छिपाने की कोशिश की थी।
अब Z प्लस कैटेगरी के पहरे में रहेंगे असम के सीएम हिमंत विश्व शर्मा, जानिए  कितने कमांडो की रहती है फौज - India TV Hindi
सिलचर में मंत्रिमंडल की बैठक की अध्यक्षता करने के बाद संवाददाता सम्मेलन में सरमा ने कहा कि ऐसी घटनाओं को राज्य में कहीं भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। रैंगिंग के दौरान बुरी तरह प्रताड़ित किए जाने और उसके बाद खुद को रैगिंग से बचाने के लिये स्नातकोत्तर के एक छात्र ने 27 नवंबर को हॉस्टल की दूसरी मंजिल से छलांग लगा दी थी। इस घटना के बाद 18 छात्रों को निष्कासित कर दिया गया था और तीन को गिरफ्तार किया गया था। मुख्यमंत्री ने कहा, “यह एक गंभीर अपराध है। हम ऐसी किसी भी घटना को बर्दाश्त नहीं करेंगे। कैबिनेट ने विश्वविद्यालय की भूमिका पर असंतोष व्यक्त किया है। उनकी ओर से निश्चित रूप से लापरवाही की गई है। पुलिस इस बात की जांच करेगी कि विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने इस घटना को छिपाने की कोशिश की या नहीं।”
Himanta Biswa Sarma Biography - जानिए कौन है हिमंता बिस्वा शर्मा, क्यों कहा  जाता है पूर्वोत्तर का अमित शाह -
शर्मा ने कहा, “मिलीभगत पाए जाने पर विश्वविद्यालय प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। यह स्पष्ट होना चाहिए कि राज्य सरकार की रैगिंग के प्रति कतई बर्दाश्त न करने की नीति है।” उन्होंने कहा कि घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस हरकत में आई और मामले की जांच की जा रही है। उन्होंने कहा, “मैंने पुलिस को भी पीड़ित को हर संभव मदद मुहैया कराने का निर्देश दिया है। अगर उसका परिवार बेहतर इलाज के लिए उसे (छात्र को) असम से बाहर स्थानांतरित करना चाहता है, तो राज्य सरकार इसकी सुविधा के लिए कदम उठाएगी।” विश्वविद्यालय के पद्म नाथ गोहेन बरुआ छात्र निवास में रहने वाले इस छात्र का फिलहाल डिब्रूगढ़ के एक निजी अस्पताल के आईसीयू में इलाज चल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seventeen − 15 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।