Search
Close this search box.

चालक ने किया इंकार तो डॉक्टर ने खुद ट्रैक्टर पर कोरोना मरीज के शव को पहुंचाया श्मशान

नगर निगम चालक और अन्य चालक कोरोना की वजह से मरे व्यक्ति के शव को श्मशान गृह तक ले जाने से डर रहे थे। इस डर को दूर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के जिला निगरानी अधिकारी डॉक्टर श्रीराम ने पीपीई पहनकर खुद ही ट्रक्टर चलाया और शव को श्मशान ले गए।

कोरोना संक्रमित व्यक्ति के शव को श्मशान तक ले जाने के लिए नगर निगम और अन्य चालकों द्वारा मना किए जाने के बाद एक डॉक्टर ने खुद ट्रैक्टर चलाकर शव को अंतिम संस्कार के लिए श्मशान तक पहुंचाया। ये पूरा वाकया तेलंगाना के पेड्डापल्ली जिले का है। 
अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि रविवार को एक सरकारी अस्पताल में कोविड-19 मरीज की मौत हो गई। जिले के इस अस्पताल में संक्रमण से मौत का यह पहला मामला था और शव को ले जाने के लिए तत्काल एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं हो सकी। इसके बाद ट्रक्टर की व्यवस्था की गई। 

एक अधिकारी ने बताया कि नगर निगम चालक और अन्य चालक कोरोना की वजह से मरे व्यक्ति के शव को श्मशान गृह तक ले जाने से डर रहे थे। इस डर को दूर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के जिला निगरानी अधिकारी डॉक्टर श्रीराम ने पीपीई पहनकर खुद ही ट्रक्टर चलाया और शव को श्मशान ले गए।
जिला प्रशासन ने पीपीई समेत सभी बचाव उपकरण मुहैया कराये थे और शव को भी संक्रमण मुक्त किया गया था। श्रीराम ने बताया कि मृतक के परिजन को भी पीपीई पहनाया गया। उन्होंने बताया, ‘‘ बचाव वाले सभी कदम उठाए गए। सभी चीजें हमने नियम के अनुसार की। नगर निगम के चालक के लिए यह नए तरह का मामला था।
 ट्रैक्टर सिर्फ इसलिए चलाया ताकि उसे आश्वास्त किया जा सके और यह भी दिखाया जाए कि प्रशासन कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में अग्रिम मोर्चे पर है। सरकारी प्रशासन में खास तौर पर यह मेरी जिम्मेदारी है।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 3 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।