पर्यावरण मंत्री जावड़ेकर शीशम के पेड़ों की अवैध कटाई पर हुए सख्त, तस्करी से संबंधित रिपोर्ट मांगी

केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केरल के वायनाड जिले के जंगलों से सदियों पुराने शीशम के पेड़ों की कथित अवैध कटाई और तस्करी के मुद्दे पर संबंधित अधिकारियों से गुरुवार को रिपोर्ट मांगी।

केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केरल के वायनाड जिले के जंगलों से सदियों पुराने शीशम के पेड़ों की कथित अवैध कटाई और तस्करी के मुद्दे पर संबंधित अधिकारियों से गुरुवार को रिपोर्ट मांगी। इस मामले में हस्तक्षेप का अनुरोध लेकर नयी दिल्ली में जावड़ेकर से भेंट करने के बाद विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने राष्ट्रीय राजधानी में पत्रकारों से यह बात बतायी।
केरल के रहने वाले मुरलीधरन ने कहा कि केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री ने उनकी शिकायत के आधार पर अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी है। शिकायत के अनुसार, आरोपियों ने केरल के जंगलों से करोड़ों रुपये कीमत की शीशम की लकड़ी काटी है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार द्वारा पिछले साल जारी एक आदेश की आड़ में इन पेड़ों की लूट हुई है। घटना की विस्तृत जांच की मांग करते हुए मुरलीधरन ने कहा कि राज्य में सत्तारूढ़ एलडीएफ के राजनीतिक नेतृत्व की पूरी जानकारी में उक्त आदेश जारी किया गया था। 
उन्होंने कहा, ‘‘पूर्ववर्ती एलडीएफ सरकार के दो मंत्रियों की भूमिकाओं की भी जांच की जानी चाहिए।’’ कांग्रेस नीत विपक्ष यूडीएफ ने मंगलवार को यह मुद्दा विधानसभा में उठाया और राज्य की वामपंथी सरकार पर आरोपियों को बचाने का आरोप लगाया। राज्य सरकार ने बुधवार को केरल उच्च न्यायालय को बताया कि पेड़ों की कटाई में माफिया शामिल है और जांच में जो बात सामने आयी है वह वास्तविक समस्या के मुकाबले बहुत छोटी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।