हिमाचल प्रदेश में भारी हिमपात,बर्फ से 248 सड़के बंद,रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

हिमाचल प्रदेश के ऊपरी क्षेत्रों में भारी हिमपात और निचले क्षेत्रों में लगातार बारिश होने से जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।राजधानी शिमला में हिमपात जारी है जिससे शहर की अधिकतर सड़कें बंद हो गईं हैं।

हिमाचल प्रदेश के ऊपरी क्षेत्रों में भारी हिमपात और निचले क्षेत्रों में लगातार बारिश होने से जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है।जिससे शहर की अधिकतर सड़कें बंद हो गईं हैं। ऊपरी शिमला को जाने वाले सभी रास्ते पूरी तरह से बंद हैं। कुफरी खड़पत्थर नारकंडा से लेकर किन्नौर तक वाहनों की आना जाना  पूरी तरह से बंद हो गई है। लक्कड़ बाजार सड़क पर वाहनों की निकलना  भी बंद कर दी गई है। स्थानीय निवासियों ने सुबह उठते ही चारों ओर बर्फ की मोटी चादर बिछी देखी और बर्फ के कुछ अंश  गिरते हुए दिखाई दे रहे थे।
 सड़के  हिमपात के कारण बंद
मिडिया रिपोर्ट के मुताबिक  शिमला में एक फुट, खदराला 48 सेंटीमीटर, शिलारू और पर्यटक रिसॉर्ट डलहौजी एक-एक फुट, चौपाल 25.4 मिमी, शिमला 21.2 सेमी, मनाली 20 सेमी, कल्पा (किन्नौर) 10 सेमी और केलांग (लाहौल-स्पीति) दो सेमी, लाहौल-स्पीति के प्रवेश द्वार रोहतांग दर्रे पर दो फुट, कुंजुम दर्रा, लेडी ऑफ केलांग, बारालाचा, सप्तर्षि पहाड़यों और गोशाल पहाड़यों, कांगड़ की धौलधार पर्वतमाला, मंडी की शिकारी देवी, किन्नौर के किन्नर कैलाश, नारकंडा, खड़ पत्थर, कुपवी, चूड़धार और चंशाल दर्रे में भारी बर्फबारी से इन क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति, संचार और पेयजल सेवाएं प्रभावित हुई हैं। वहीं अटल सुरंग के दक्षिणी छोर की सड़क पर तीन फुट तक बर्फ पड़ है। भारत-तिब्बत राष्ट्रीय राजमार्ग, मनाली-एटीआर-केलांग और अन्य राष्ट्रीय और राज्य राजमार्गों सहित लगभग 400 सड़कें हिमपात के कारण बंद हैं। राज्य में लगभग 300 रोडवेज और निजी बसों के रूट बंद हैं।
 हवाई अड्डे के पास हुआ भारी हिमपात
शिमला हवाई अड्डे और इसके आसपास के क्षेत्रों जैसे कंडाघाट, पर्यटन स्थल कसौली, चायल और सोलन, बड़ग, राजगढ़, हरिपुरधार और गिरिपार (सिरमौर) में 25 साल के अंतराल के बाद भारी हिमपात हुआ है। वहीं हिमपात के कारण रास्तों में फंसे पर्यटकों को भी दिक्कतें उठानी पड़ रही हैं। लोक निर्माण विभाग ने जेसीबी और अन्य मशीनरी की सहायता से सड़कों से बर्फ हटाने इन्हें बहाल करने में जुट गया है।
दर्ज किया गया न्यूनतम तापमान
 सिरमौर जिले के मुख्यालय नाहन में 60 मिमी, नैनादेवी (बिलासपुर) 58.4 मिमी, ऊना 52.6 मिमी, बिलासपुर 36 मिमी,पांवटा-साहिब (सिरमौर) 32 मिमी, सोलन और चंबा 30 मिमी, धर्मशाला 29 मिमी और कांगड़ में 23 मिमी बारिश हुई। इन क्षेत्रों में घने कोहरे से दृश्यता में भी कमी है। हिमपात के कारण राष्ट्रीय राज्यमार्ग और सम्पर्क मार्ग काफी स्थानों मे अवरुद्ध और फिसलन भरे हो गए हैं।केलांग में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 6.9 डिग्री, किन्नौर(कल्पा) में शून्य से नीचे 4.7 डिग्री, कुफरी शून्य से नीचे 3.2 डिग्री, शिमला और मनाली में शून्य से नीचे 0.4 डिग्री और डलहौजी में शून्य से नीचे दो डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। चंबा में तापमान दो डिग्री, सोलन और धर्मशाला 3.2 डिग्री, मंडी 5.6 डिग्री और कांगड़ में 6.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × two =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।