कर्नाटक :18 साल से पहले की शादी रद्द नहीं की जा सकती : HC, पति ने की थी अपील

कर्नाटक उच्चय न्यायालय की तरफ़ से एक बड़ा फैसला सामने आया है। दरअसल, एक पति ने अपनी नाबालिग़ पत्नी के ख़िलाफ़ शादी रद्द करने की याचिका दायर की थी, जिसे HC ने इंकार करते हुए कहा की 18 साल की उम्र से पहले की गई शादी रद्द नहीं किया जा सकता।

कर्नाटक उच्चय न्यायालय की तरफ़ से एक बड़ा फैसला सामने आया है। दरअसल, एक पति ने अपनी नाबालिग़ पत्नी के ख़िलाफ़ शादी रद्द करने की याचिका दायर की थी, जिसे HC ने इंकार करते हुए कहा की 18 साल की उम्र से पहले की गई शादी रद्द नहीं किया जा सकता। जानकारी के अनुसार, पीठ ने इस संबंध में फैमिली कोर्ट के पहले के आदेश को भी रद्द कर दिया। 
मुख्य न्यायाधीश के आदेश 
मुख्य न्यायाधीश पी.बी. वराले और न्यायमूर्ति एस विश्वजीत शेट्टी ने यह आदेश हाल ही में एक महिला द्वारा इस संबंध में दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए दिया। पीठ ने कहा, हिन्दू विवाह अधिनियम की धारा 5(3) के अनुसार वर की आयु 21 तथा वधू की आयु 18 वर्ष होनी चाहिए। पीठ ने कहा कि विवाह के लिए 18 वर्ष की आयु निर्दिष्ट करने वाले नियम को अधिनियम की धारा 11 से बाहर रखा जा रहा है। विवाह रद्द करने के अलावा, तथ्यों को धारा 5 और नियम 1, 4 और 5 के विपरीत होना चाहिए। इसलिए इस मामले में विवाह को रद्द करना लागू नहीं होगा।
शादी के वक्त लड़की नाबालिग थी
मांड्या जिले की याचिकाकर्ता सुशीला ने 15 जून 2012 को मंजूनाथ से शादी की थी। शादी के वक्त सुशीला नाबालिग थी। पति को इस बात का पता बाद में चला और उसने फैमिली कोर्ट में याचिका दायर कर शादी रद्द करने की मांग की। फैमिली कोर्ट ने याचिका को स्वीकार करते हुए कहा था कि हिंदू मैरिज एक्ट के मुताबिक दुल्हन की उम्र 18 साल होनी चाहिए और इस मामले में दुल्हन की उम्र 16 साल, 11 महीने और 8 दिन थी। अदालत ने कहा था कि यह विवाह हिंदू विवाह अधिनियम की धारा 11 के तहत मान्य नहीं होगा। फैमिली कोर्ट ने 8 जनवरी 2015 को शादी रद्द करने के संबंध में आदेश दिया था। इस आदेश के खिलाफ पत्नी सुशीला ने हाईकोर्ट में अपील की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × one =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।