Search
Close this search box.

नहीं थम रहा कर्नाटक का सियासी ‘नाटक’, भाजपा विधायक ने खोली सीएम येदियुरप्पा की पोल

दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में इन दिनों सियासी “कर नाटक” चल रहा है, तो अभी ताजा हालातों से लगता है कि बहुत जल्दी थमने वाला नहीं है। उधर, दिल्ली में बैठी भाजपा आलाकमान ने यह साफ कर दिया है कि कर्नाटक में किसी भी तरह का कोई नेतृत्व परिवर्तन नहीं होगा।

दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक में इन दिनों सियासी “कर नाटक” चल रहा है, तो अभी ताजा हालातों से लगता है कि बहुत जल्दी थमने वाला नहीं है। उधर, दिल्ली में बैठी भाजपा आलाकमान ने यह साफ कर दिया है कि कर्नाटक में किसी भी तरह का कोई नेतृत्व परिवर्तन नहीं होगा और मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ही कर्नाटक की सरकार को चलाएंगे। मगर इन सबसे परे कर्नाटक में जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां कर रही है। येदियुरप्पा सरकार और बागी विधायकों के बीच खींचतान का सिलसिला जारी है। 
वहीं, दूसरी तरफ भाजपा के महासचिव और कर्नाटक के प्रभारी अरूण सिंह भी कर्नाटक में सियासी नाटक को दुरूस्त करने के लिए राजधानी बेंगलुरू में रूके हुए है। अब भाजपा एमएलसी एएच विश्वनाथ ने येदियुरप्पा के नेतृत्व पर सवाल उठाया है और कहा है कि वह सरकार चलाने की हालत में नहीं हैं। 
भाजपा एमएलसी एएच विश्वनाथ ने कहा कि सरकार और पार्टी के बारे में जनता की राय नकारात्मक है। यह अच्छी बात नहीं है। बीजेपी महासचिव अरुण सिंह से मैंने कहा है कि येदियुरप्पा की आयु, उनका स्वास्थ्य को देखते हुए वह मुख्यमंत्री के तौर पर सरकार चलाने की हालात में नहीं हैं। उनके मार्गदर्शन में उस स्थान पर किसी और को मुख्यमंत्री बना देना चाहिए। सरकार में पारिवारिक दखल से चीजें और खराब होंगी। एमएलसी ने आगे कहा कि बीवाई विजयेंद्र और उनके दोस्त कह रहे थे कि हम पैसे इकट्ठा करते हैं और यह दिल्ली जाता है। यहां भी बुरा प्रचार हो रहा है। मैंने इस बारे में महासचिव (अरुण सिंह) को भी बताया है। 
अरुण सिंह इस दौरान वह बृहस्पतिवार को सत्ताधारी दल के विधायकों के साथ चर्चा करेंगे और शुक्रवार को प्रदेश भाजपा की कोर कमेटी को संबोधित करेंगे। कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच हाल ही में अरुण सिंह ने मुख्यमंत्री को बदलने की खबरों का खंडन किया था और कहा था कि येदियुरप्पा पद पर बने रहेंगे। माना जा रहा है कि भाजपा का एक वर्ग येदियुरप्पा को पद से हटाने का दबाव बना रहा है। 
बता दें कि कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की कुर्सी को लेकर चल रही अटकलों के बीच अरुण सिंह ने कहा है कि पार्टी में कोई मतभेद नहीं है। बुधवार को मीडिया से बातचीत में अरुण सिंह ने कहा कि ‘पार्टी में कोई मतभेद नहीं है और हम एक हैं। मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व में बेहतरीन काम चल रहा है।’ 
खैर इन सबसे परे प्रदेश की राजनीति में खलबली तो मची हुई है, ऐसे में राज्य सरकार का ध्यान कोरोना महामारी और प्रदेश की जनता को टीकाकरण लगाने की प्रक्रिया पर ध्यान देने चाहिए, लेकिन वह खुद इस समय अपने आंतरिक लड़ाई में उलझी हुई है। ऐसे में जनता पर ध्यान कौन देगा और कोरोना समेत कई मुद्दे पर ध्यान कौन देगा इस बात की चिंता करना तो लाजमी है।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

3 × 2 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।