Maharashtra : शिंदे खेमे में शामिल शिवसेना विधायक बांगर को हिंगोली इकाई के प्रमुख पद से हटाया

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले गुट में शामिल हुए विधायक संतोष बांगर को शिवसेना ने अपनी हिंगोली जिला इकाई के अध्यक्ष पद से हटा दिया है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले गुट में शामिल हुए विधायक संतोष बांगर को शिवसेना ने अपनी हिंगोली जिला इकाई के अध्यक्ष पद से हटा दिया है।शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ ने सोमवार को बांगर को पद से हटाने की घोषणा की और कहा कि पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए कार्रवाई शुरू की गयी थी।
शिंदे और पार्टी के कुछ अन्य विधायकों द्वारा विद्रोह 
मराठी प्रकाशन ने कहा कि सेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के आदेश पर कार्रवाई की गयी।बांगर चार जुलाई को विधानसभा में सरकार के शक्ति परीक्षण से कुछ घंटे पहले शिंदे खेमे में शामिल हुए थे।पिछले महीने शिंदे और पार्टी के कुछ अन्य विधायकों द्वारा विद्रोह के शुरुआती दिनों में, हिंगोली जिले के कलमनूरी से 2019 का राज्य विधानसभा चुनाव जीतने वाले बांगर को रोते हुए और विद्रोहियों को वापस लौट आने के लिए कहते हुए देखा गया था।एक वीडियो में बांगर को रोते हुए और यह कहते हुए दिखाया गया था कि राज्य में माहौल खराब हो गया है और शिंदे का समर्थन करने वाले सभी विधायकों को पार्टी में वापस आना चाहिए क्योंकि ठाकरे उन्हें माफ कर देंगे।
उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली सरकार गिर गयी
पिछले महीने, शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के अधिकतर विधायकों ने पार्टी नेतृत्व के खिलाफ बगावत कर दी और उसे राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस के साथ संबंध तोड़ने के लिए कहा। परिणामस्वरूप उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली सरकार गिर गयी।30 जून को शिंदे ने मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली, जबकि भाजपा के देवेंद्र फडणवीस ने उप-मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen + 13 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।