NCP की मांग, निर्भया निधि से खरीदे गए शिंदे गुट के विधायकों के सुरक्षा वाहन लिए जाएं वापस

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने सोमवार को निर्भया निधि के तहत खरीदे गए और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले शिवसेना गुट के विधायकों की सुरक्षा के लिए तैनात वाहनों को तत्काल वापस लेने की मांग की।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने सोमवार को निर्भया निधि के तहत खरीदे गए और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले शिवसेना गुट के विधायकों की सुरक्षा के लिए तैनात वाहनों को तत्काल वापस लेने की मांग की।विपक्षी दल ने कहा कि इन वाहनों को निर्भया दस्ते को वापस दिया जाना चाहिए, जो महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ होने वाले विभिन्न अपराधों को रोकने के लिए एक समर्पित बल है।
शरद पवार के नेतृत्व वाली पार्टी ने इस मांग को लेकर महाराष्ट्र पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखा है।पुलिस के एक अधिकारी ने रविवार को दावा किया था कि मुंबई पुलिस द्वारा इस साल की शुरुआत में निर्भया कोष से खरीदे गए कुछ वाहनों का इस्तेमाल मुख्यमंत्री के नेतृत्व वाले शिवसेना गुट के विधायकों और सांसदों को ‘वाई प्लस’ श्रेणी की सुरक्षा प्रदान करने के लिए किया जा रहा था।
राज्य एनसीपी के मुख्य प्रवक्ता महेश तपासे ने पत्र में लिखा है, “निर्भया कोष राज्य में महिलाओं की सुरक्षा से संबंधित मुद्दों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए पुलिस तंत्र को सक्षम करने के लिए बनाया गया था। महिलाओं की सुरक्षा के लिए बने वाहनों को डायवर्ट करना और सरकार का समर्थन करने वाले विधायकों की सुरक्षा के लिए उन्हें सेवा में लगाना स्पष्ट रूप से निर्भया योजना का उल्लंघन है।”उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पूरी तरह से राजनीतिक दबाव में की गई गलती को सुधारने के लिए बाध्य है।
केंद्र द्वारा राज्य सरकारों को दी जा रही निर्भया निधि
निर्भया निधि के तहत प्राप्त 30 करोड़ रुपये का उपयोग कर इस साल जून में शहर की पुलिस ने 220 बोलेरो, 35 एर्टिगा चार पहिया वाहन, 313 पल्सर मोटरसाइकिल और 200 एक्टिवा दोपहिया वाहनों की खरीद की थी।महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा से जुड़ी योजनाओं को लागू करने के लिए 2013 से केंद्र द्वारा राज्य सरकारों को निर्भया निधि दी जा रही है। यह कोष 2012 में नई दिल्ली में 23 वर्षीय पैरामेडिकल छात्रा के दुष्कर्म और हत्या की पृष्ठभूमि में बनाया गया था।तपासे ने लिखा है कि पार्टी विधायकों की सुरक्षा के लिए तैनात उक्त वाहनों को तत्काल वापस लेने और निर्भया दस्ते को वापस भेजने की मांग करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × 4 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।