रमन सिंह का भूपेश सरकार पर हमला, कहा- मुख्यमंत्री ने चुनावी वादों को अनदेखा कर राज्य को कर्ज तले दबाया

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह ने कहा कि भूपेश सरकार को ढाई साल हो गए, लेकिन मुख्यमंत्री ने अपने चुनावी वादों को अनदेखा करते हुए प्रदेश की जनता के साथ धोखा किया और राज्य को अत्यधिक कर्ज के बोझ तले दबा दिया।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और पार्टी के उपाध्यक्ष तथा छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डा.रमन सिंह ने राज्य की भूपेश सरकार पर बड़ा आरोप लगाया। रमन ने कहा कि भूपेश सरकार को ढाई साल हो गए, लेकिन मुख्यमंत्री ने अपने चुनावी वादों को अनदेखा करते हुए प्रदेश की जनता के साथ धोखा किया और राज्य को अत्यधिक कर्ज के बोझ तले दबा दिया।
डा.सिंह ने आज कहा कि भूपेश सरकार ने 30 महीने में जन घोषणा पत्र में किए एक भी वादे पूरे नही किए। किसानों को दो वर्ष का बकाया बोनस अभी तक नही मिला,कर्जमाफी भी केवल सहकारी बैंकों के बकायेदार किसानों की हुई,और अब तो समर्थन मूल्य और 2500 रूपए के बीच के अन्तर की न्याय योजना के तहत कई किश्तों में दी जाने वाली राशि में भी कटौती कर दी गई है।
उन्होने कहा कि पूर्ण शराबबंदी के वादे को यह सरकार भूल चुकी है,जिसके बूते पर उसे गांवों में महिलाओं ने भारी समर्थन दिया था।आज आधी आबादी अपने को ठगा महसूस कर रही है। बेरोजगार युवको के 2500 रूपए महीने का बेरोजगारी भत्ता इंतजार करते यह सरकार आधा कार्यकाल पूरा कर चुकी है। उन्होने कहा कि जनघोषणा पत्र में नौकरियों के बड़ बड़ वादे करने वाली यह सरकार 14 हजार शिक्षकों की नियुक्ति का आदेश जारी नही कर रही है,जबकि भर्ती सम्बन्धी औपचारिकताएं पूरी हुए दो वर्ष हो चुके है।
एआईसीसी की घोषणा पत्र क्रियान्वयन समिति के भूपेश सरकार को वादे पूरा करने पर दी गई शाबासी के बारे में पूछे जाने पर उन्होने कहा कि स्वयं की पीठ थपथपाने से किसी को कौन रोक सकता है। सच यह हैं कि जनता अपने को ठगी महसूस कर रही है,और लोगो में आक्रोश है। इस सरकार के सत्ता में आने के बाद से विकास कार्य पूरी तरह से ठप है,और उनके सत्ता में हटते समय जो काम अधूरे छूटे थे उन पर आगे कोई काम नही हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 − four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।