कांग्रेस के पूर्व विधान पार्षद ‘शिक्षाविद सिल्विया बागे’ का पार्थिव शरीर लाया गया रांची

शनिवार, 31 दिसंबर-2022 को कांग्रेस नेता पूर्व विधानपार्षद ‘शिक्षाविद सिल्विया बागे’ का अपने आवास पर निधन हो गया था। जानकारी के मुताबिक़, आज रविवार (1 जनवरी-2023) को उनके अंतिम दर्शन के लिए उनका पार्थिव शरीर झारखण्ड श्रद्धानंद रोड रांची ‘कांग्रेस मुख्यालय’ लाया गया।

शनिवार, 31 दिसंबर-2022 को कांग्रेस नेता पूर्व विधानपार्षद ‘शिक्षाविद सिल्विया बागे’ का अपने आवास पर निधन हो गया था। जानकारी के मुताबिक़, आज रविवार (1 जनवरी-2023) को उनके अंतिम दर्शन के लिए उनका पार्थिव शरीर झारखण्ड श्रद्धानंद रोड रांची ‘कांग्रेस मुख्यालय’ लाया गया। ‘सिल्विया’ बिहार सरकार के पूर्व मंत्री ‘सुशिल कुमार बग्गे’ की पत्नी थीं। पार्टी के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष बंधु टिर्की, प्रदेश काँग्रेस महासचिव सह कार्यालय प्रभारी अमूल्य नीरज खलखो एवं प्रदेश कॉंग्रेस कमिटी के प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने ‘श्रीमती बागे’ पार्थिव शरीर पर पार्टी का झंडा ओढ़ाकर एवं पुष्प अर्पित किया। 
सिल्विया बागे का निधन अपूरणीय क्षति
पार्टी मुख्यालय पर बड़े संख्या में पार्टी कार्यकर्ता उपस्थित थे, पुष्पांजलि अर्पण के उपरांत दिवंगत नेत्री के सम्मान में दो मिनट का मौन भी रखा गया। मौके पर कार्यकारी अध्यक्ष बंधु टिर्की ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि पूर्व विधान पार्षद सिल्विया बागे का निधन न सिर्फ काँग्रेस पार्टी के लिए बल्कि झारखण्ड के लिए अपूरणीय क्षति है। दु:ख के इस घड़ी में पूरा कॉंग्रेस परिवार शोकाकुल परिवार के साथ खड़ है।
सिल्विया बागे का शिक्षा के क्षेत्र में योगदान 
उन्होंने कहा कि वो परमात्मा से प्रार्थना करते है कि दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें। साथ ही साथ उनके परिजनों को इस दुख को सहने की शक्ति दे।उन्होंने कहा कि सामाजिक राजनीतिक जीवन में उनका योगदान विशेष कर शिक्षा के क्षेत्र में कालेजों के स्थापना के लिए सदैव स्मरणीय रहेगा।
नेता विधायक दल आलम ने भी पूर्व विधान पार्षद के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि उनकी संवेदनाएं शोकाकुल परिवार के साथ है।साथ ही नेता विधायक दल सह ग्रामीण विकास मंत्री ने कहा कि बागे परिवार का शिक्षा जगत के उत्थान के लिए किया गया कार्य भुलाया नहीं जा सकता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 + eighteen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।