TMC ने बिल्कीस बानो मामले में दोषियों की रिहाई को मुद्दा बना, शुरू किया 48 घंटे का धरना

बिल्कीस बानो सामूहिक बलात्कार मामले में 11 दोषियों की रिहाई के खिलाफ तृणमूल कांग्रेस की महिला इकाई ने मंगलवार को यहां 48 घंटे का धरना शुरू किया और रिहाई को ”शर्मनाक एवं अस्वीकार्य” बताया।

बिल्कीस बानो सामूहिक बलात्कार मामले में 11 दोषियों की रिहाई के खिलाफ तृणमूल कांग्रेस की महिला इकाई ने मंगलवार को यहां 48 घंटे का धरना शुरू किया और रिहाई को ”शर्मनाक एवं अस्वीकार्य” बताया।प्रदर्शन कर रही नेताओं ने पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के बगदा में सीमा सुरक्षा बल के जवानों द्वारा हाल ही में एक महिला के साथ कथित बलात्कार सहित महिलाओं की सुरक्षा को लेकर कथित ढुलमुल रवैये के लिए केंद्र की निंदा की।
देश की महिलाएं असुरक्षित महसूस करती हैं – शशि पांजा
वरिष्ठ तृणमूल नेता और राज्य में उद्योग मंत्री शशि पांजा ने कहा, ‘‘देश का कानून कहता है कि जब किसी कैदी को छूट देने पर विचार किया जाता है तो बलात्कार और तस्करी के मामले में दंडित लोगों पर विचार नहीं किया जाता है। हम यह नहीं समझ पा रहे कि बिल्कीस बानो मामले में दोषियों को कैसे रिहा किया गया। यह शर्मनाक और अस्वीकार्य है।पांजा ने 11 दोषियों को वापस जेल नहीं भेजने के लिए केंद्र और गुजरात में भारतीय जनता पार्टी नीत सरकारों की आलोचना करते हुए कहा, देश की महिलाएं उनके कदमों के कारण असुरक्षित और अपमानित महसूस करती हैं।’’
केंद्र सरकार पर जमकर साधा निशाना
राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि नयी दिल्ली, जिसकी कानून व्यवस्था केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकार क्षेत्र में है, महिलाओं के लिहाज से देश के सबसे असुरक्षित शहरों में से एक है।कार्यक्रम में तृणमूल नेता और राज्य में मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने बगदा बलात्कार घटना को लेकर केंद्र पर निशाना साधा। उन्होंने आरोप लगाया कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) पर देश की सीमाओं की रक्षा करने की जिम्मेदारी है और वे जघन्य अपराध कर रहे हैं। उन्होंने सवाल किया कि क्या केंद्रीय गृह मंत्री इस घटना को लेकर रिपोर्ट मांगेंगे और महिला से बलात्कार के आरोपी कर्मियों को दंडित करेंगे?अगस्त में पश्चिम बंगाल से अवैध रूप से बांग्लादेश जाने की कोशिश कर रही एक महिला से बलात्कार के आरोप में बीएसएफ के दो जवानों को गिरफ्तार किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 × 5 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।