लोकसभा चुनाव 2024

पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

दूसरा चरण - 26 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

89 सीट

तीसरा चरण - 7 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

94 सीट

चौथा चरण - 13 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

96 सीट

पांचवां चरण - 20 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

49 सीट

छठा चरण - 25 मई

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

सातवां चरण - 1 जून

Days
Hours
Minutes
Seconds

57 सीट

लोकसभा चुनाव पहला चरण - 19 अप्रैल

Days
Hours
Minutes
Seconds

102 सीट

Tripura: माणिक साहा ने कहा- भाजपा ‘गंगा’ की तरह है… पाप से मुक्ति पाने के लिए इसमें डुबकी लगाएं

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक साहा ने वामपंथी नेताओं से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने की अपील करते हुए रविवार को कहा कि उनकी पार्टी गंगा नदी की तरह है और इसमें डुबकी लगाने से उन्हें सभी पापों से मुक्ति मिल जाएगी।

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री माणिक साहा ने वामपंथी नेताओं से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने की अपील करते हुए रविवार को कहा कि उनकी पार्टी गंगा नदी की तरह है और इसमें डुबकी लगाने से उन्हें सभी पापों से मुक्ति मिल जाएगी।
bjp state president manik saha new tripura cm - India Hindi News - बीजेपी  प्रदेश अध्यक्ष माणिक साहा होंगे नए सीएम, चुनाव से पहले त्रिपुरा में बड़ा  फेरबदल
दक्षिण त्रिपुरा के काकराबान में जन विश्वास रैली के तहत एक जनसभा को संबोधित करते हुए साहा ने कहा कि भाजपा इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव में जीत को लेकर आश्वस्त है। उन्होंने कहा, “मैं उन लोगों से अपील करता हूं जो अब भी स्टालिन और लेनिन की विचारधारा में विश्वास करते हैं, वे भाजपा में शामिल हों क्योंकि यह गंगा नदी की तरह है। यदि आप गंगा में पवित्र स्नान करते हैं तो आपके सभी पाप दूर हो जाएंगे।” उन्होंने कहा, “ट्रेन के डिब्बे अभी भी खाली हैं। खाली डिब्बे में बैठें और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हम सभी को मंजिल तक ले जाएंगे, जहां हमें होना चाहिए था।”
Dr. Manik Saha appointed as new CM of Tripura, took oath at Raj Bhavan |  त्रिपुरा: डॉ. माणिक साहा बने त्रिपुरा के नए सीएम, राजभवन में ली शपथ |  Patrika News
विपक्षी मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) पर निशाना साधते हुए साहा ने आरोप लगाया कि कम्युनिस्ट पार्टी ने लोगों के लोकतांत्रिक अधिकारों का दमन किया और वर्षों तक त्रिपुरा पर शासन किया। उन्होंने आरोप लगाया, “कम्युनिस्ट शासन के दौरान कोई लोकतंत्र नहीं था क्योंकि वे हिंसा और आतंक की रणनीति में विश्वास करते थे। दक्षिण त्रिपुरा जिले में, वामपंथी शासन के दौरान 69 विपक्षी नेताओं की हत्या कर दी गई थी। काकराtopबान कोई अपवाद नहीं था जहां कई राजनीतिक हत्याएं हुईं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 − one =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।