उत्तराखंड में DRDO की मदद से दो अस्थाई कोविड अस्पताल 15 जून तक होंगे तैयार

डीआरडीओ की मदद से उत्तराखंड में कुमांउ क्षेत्र के हल्द्वानी और गढ़वाल क्षेत्र के ऋषिकेश में 500 -500 बिस्तर की क्षमता वाले दो अस्थाई कोविड अस्पताल 15 जून तक तैयार हो जाएंगे।

डीआरडीओ की मदद से उत्तराखंड में कुमांउ क्षेत्र के हल्द्वानी और गढ़वाल क्षेत्र के ऋषिकेश में 500 -500 बिस्तर की क्षमता वाले दो अस्थाई कोविड अस्पताल 15 जून तक तैयार हो जाएंगे। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के अनुरोध पर बन रहे इन अस्पतालों में से एक हल्द्वानी के मेडिकल कॉलेज परिसर में बनेगा जिसे सुशीला तिवारी अस्पताल संचालित करेगा जबकि आईडीपीएल ऋषिकेश में बनने वाला अस्पताल एम्स ऋषिकेश संचालित करेगा।
हल्द्वानी में बनने वाले अस्थाई अस्पताल में 400 ऑक्सीजन बिस्तर और 100 आईसीयू बिस्तर होंगे जबकि जबकि आईडीपीएल ऋषिकेश में 500 ऑक्सीजन सपोर्टेड बिस्तर होंगे। प्रदेश के मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने बताया कि दोनों अस्पतालों के 15 जून तक तैयार होकर संचालन शुरू करने की संभावना है।
उन्होंने बताया कि परियोजनाओं पर काम शुरू करने के लिए डीआरडीओ को 40 करोड रूपए जारी किए जा चुके हैं। ओमप्रकाश ने उम्मीद जताई कि अतिरिक्त अस्पतालों के बनने से राज्य में कोविड से ठीक होने वालों की दर बढेगी और मृत्यु दर में कमी आएगी। मंगलवार को एक दिन में अब तक का कोविड मरीजों का सर्वाधिक आंकडा 7028 दर्ज किया गया जबकि 85 अन्य की मौत हो गई।
मुख्य सचिव ने कहा,’ उत्तराखंड सरकार का फोकस पूरी तरह से कोविड संक्रमण में रिकवरी रेट अधिकतम करने पर है। जब रिकवरी रेट बढ़ेगा तो मृत्यु दर स्वाभाविक रूप से कम होगी। मृत्यु दर को सामान्य बनाना ही लक्ष्य है और इसके लिए सामूहिक प्रयास जारी हैं ।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × one =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।