गोलमुरी पुलिस लाइन में महिला कांस्टेबल, उसकी मां-बेटी की हत्या, दो दिन से बंद कमरे में पड़ा था शव

जमशेदपुर के गोलमुरी स्थित पुलिस लाइन के स्टाफ क्वार्टर में एक महिला कांस्टेबल सविता हेंब्रम (30 वर्ष), उनकी मां लखिया मुर्मू (70 वर्ष) और बेटी गीता मुर्मू (13 वर्ष) की हत्या धारदार हथियार से कर दी गई।

जमशेदपुर के गोलमुरी स्थित पुलिस लाइन के स्टाफ क्वार्टर में एक महिला कांस्टेबल सविता हेंब्रम (30 वर्ष), उनकी मां लखिया मुर्मू (70 वर्ष) और बेटी गीता मुर्मू (13 वर्ष) की हत्या धारदार हथियार से कर दी गई। गुरुवार देर रात क्वार्टर से दरुगध आने पर तीनों की लाश बरामद की गई है। पुलिस जांच में यह बात सामने आई है कि तीनों की हत्या दो दिन पहले ही की गई है।
वही, अपराधियों ने वारदात को अंजाम देने के बाद क्वार्टर का दरवाजा बंद कर बाहर से ताला जड़ दिया था। गुरुवार रात पड़ोसियों ने जब बंद क्वार्टर से दुगर्ंध आने की शिकायत पुलिस लाइन के सार्जेंट मेजर को दी, तब पुलिस ताला तोड़कर अंदर घुसी। तीनों की लाशें क्षत-विक्षत हाल में पड़ी थीं। इनकी हत्या धारदार हथियार से की गई थी। 
मृतका के पति की भी हुई थी हत्या 
इस वारदात की सूचना पाकर जमशेदपुर के एसएसपी प्रभात कुमार सिटी एसपी विजय शंकर भी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने बताया कि सविता मुर्मू के पति कैलाश हेंब्रम की हत्या नक्सलियों ने कर दी थी। इसके बाद अनुकंपा के आधार पर उन्हें नौकरी मिली थी। वह मूल रूप से सरायकेला खरसावां जिले के राजनगर की रहने वाली थी। सविता की पोस्टिंग एसएसपी ऑफिस में ही थी। 
हालांकि, एसएसपी प्रभात कुमार ने बताया कि वह बुधवार से कार्यालय नहीं आ रही थी। इस संबंध में कोई सूचना भी नहीं थी। अनुमान लगाया जा रहा है कि ट्रिपल मर्डर की यह वारदात मंगलवार रात या बुधवार को अंजाम दी गई है। पुलिस की फॉरेंसिक टीम ने भी मौके पर पहुंच कर जांच की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × four =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।