पंजाबः हाइवे के रास्ते में आया करोड़ों का घर, मालिक ने जुगाड़ लगाकर स्थानांतरित किया मकान

पंजाब के संगरूर से एक चौकाने वाला मामला सामने आया है। अभीतक आप ऐसा साचते रहे होंगे कि जब कोई भवन बनाता है तो एकबार बनने के बाद फिर उसकी जगह को बदल नहीं सकते। लेकिन ऐसा नहीं है, आज हमारे देश में ऐसी टेक्नोलॉजी भी आ चुकी है कि आप किसी भी मकान या भवन को कहीं भी उठाकर ले जा सकते हैं। पंजाब में भी ऐसा ही किया गया है।

पंजाब के संगरूर से एक चौकाने वाला मामला सामने आया है। अभीतक आप ऐसा साचते रहे होंगे कि जब कोई भवन बनाता है तो एकबार बनने के बाद फिर उसकी जगह को बदल नहीं सकते। लेकिन ऐसा नहीं है, आज हमारे देश में ऐसी टेक्नोलॉजी भी आ चुकी है कि आप किसी भी मकान या भवन को कहीं भी उठाकर ले जा सकते हैं। पंजाब में भी ऐसा ही किया गया है। 
किसान ने लिया मकान को एक स्थान से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित करने का बड़ा फैसला 
दिल्ली-कटरा-अमृतसर एक्सप्रेस वे पर रास्ते में पंजाब के एक किसान का डेड करोड़ का घर आ गया। किसान से मुआवजे देने के लिए भी कहा गया, लेकिन किसान को यह सब पसंद नहीं था। किसान ने उस घर को ढ़हाने की बजाय हाइवे से 500 फीट दूसरे स्थान पर ले जाने का फैसला किया। अभी डेड करोड़ के इस मकान को 250 फीट तक एक स्थान से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित कर दिया गाया है और आगे काम जारी है। 
जारी है काम 
500 फीट दूर दो मंजिला मकान को शिफ्ट करने का काम चल रहा है। घर के मालिक सुखविंदर सिंह सुखी ने बताया कि मैं इस घर को शिफ्ट कर रहा हूं क्योंकि यह दिल्ली-अमृतसर-कटरा एक्सप्रेस-वे के रास्ते में आ रहा था. मुझे मुआवजे की पेशकश की गई थी लेकिन मैं दूसरा घर नहीं बनाना चाहता था। मैंने इसे बनाने में करीब 1.5 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। अब इसे 250 फीट स्थानांतरित कर दिया गया है। 
बहुत सारे जैक के जरिए उठाया घर 
वीडियो में दिख रहा है कि घर को ढेर सारे जैक से उठाया गया है। पूरे घर को शिफ्ट करने का काम इतना आसान नहीं है। इसके लिए धीरे-धीरे काम को आगे बढ़ाया जा रहा है। बिना किसी नुकसान के घर को स्थानांतरित करने का प्रयास किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twelve + 3 =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।