अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में विस्फोट को लेकर SGPC प्रमुख ने मान सरकार पर “पूरी तरह से विफल” होने का लगाया आरोप

गुरुवार तड़के पंजाब के अमृतसर में स्वर्ण मंदिर के आसपास कम तीव्रता वाले विस्फोट के बाद, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रमुख हरजिंदर सिंह धामी ने राज्य सरकार पर ऐसी घटनाओं को रोकने में “पूरी तरह से विफल” होने का आरोप लगाया।

गुरुवार तड़के पंजाब के अमृतसर में स्वर्ण मंदिर के आसपास कम तीव्रता वाले विस्फोट के बाद, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रमुख हरजिंदर सिंह धामी ने राज्य सरकार पर ऐसी घटनाओं को रोकने में “पूरी तरह से विफल” होने का आरोप लगाया। पवित्र नगरी में एक सप्ताह में इस तरह की यह तीसरी घटना है। एसजीपीसी प्रमुख ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा, “यह पंजाब सरकार की नाकामी है। अगर इसकी गहराई से जांच की गई होती तो कल रात की घटना नहीं होती।”
पुलिस से इस मामले की गहन जांच करने का किया आग्रह
एएनआई से बात करते हुए, उन्होंने कहा कि समिति अपने स्वयं के टास्क फोर्स को मजबूत करेगी क्योंकि राज्य में भगवंत मान सरकार कानून व्यवस्था बनाए रखने में ‘विफल’ रही है। उन्होंने एएनआई से कहा, “हम अब अपनी खुद की टास्क फोर्स को मजबूत करेंगे। हम पुलिस से इस मामले की गहन जांच करने का आग्रह करते हैं।” एसजीपीसी प्रमुख ने पुलिस के साथ बाद में उस स्थान का दौरा किया जहां घटना लगभग आधी रात को हुई थी। पंजाब पुलिस के मुताबिक इस मामले में एक महिला समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पंजाब के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गौरव यादव ने कहा कि इस सप्ताह हुए विस्फोटों के सिलसिले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है।
पांच लोगों को किया गया गिरफ्तार
यादव ने ट्विटर पर कहा कि घटना में शामिल पांच लोगों की गिरफ्तारी से मामला सुलझ गया है। पंजाब के डीजीपी ने ट्वीट किया, “अमृतसर में कम तीव्रता वाले विस्फोट का मामला सुलझा। पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया।” सप्ताह में यह तीसरा धमाका था जो अमृतसर में स्वर्ण मंदिर के आसपास हुआ था। पुलिस ने कहा कि ताजा विस्फोट बुधवार आधी रात को गुरु रामदास निवास भवन के पीछे हुआ। अमृतसर के पुलिस आयुक्त नौनिहाल सिंह ने पहले कहा था कि आधी रात के आसपास पुलिस को सूचित किया गया था कि “तेज आवाज” सुनाई दी थी। धमाका गुरुवार सुबह करीब 12.30 बजे हुआ।
धमाके के पीछे का मकसद शांति को भंग करना था
पंजाब पुलिस सूत्रों के मुताबिक, विस्फोट के पीछे का मकसद शांति भंग करना था। सूत्र ने एएनआई को बताया, “विस्फोट में पटाखों में इस्तेमाल विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया था।” हालांकि इस घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। पत्रकारों से बात करते हुए, पुलिस आयुक्त नौनिहाल सिंह ने पहले कहा, “लगभग 12.15-12.30 बजे एक तेज आवाज सुनाई दी। संभावना है कि यह एक और विस्फोट हो सकता है। इसकी पुष्टि की जा रही है और इसकी पुष्टि होनी बाकी है। हमने पाया है इमारत के पीछे कुछ टुकड़े हैं। लेकिन अंधेरा होने के कारण हम इसका पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।” उन्होंने कहा, “संदिग्धों को घेरा जा रहा है और जांच जारी है।” श्री गुरु राम दास निवास सबसे पुराना ‘सराय’ (लॉज) है। पुलिस कर्मी और फोरेंसिक टीम के सदस्य घटना स्थल पर पहुंचे और जांच की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one × five =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।