अपनी सेंचुरी छोड़ वार्नर ने टीम की जीत पर दिया जोर, हर कोई कर रहा है सलाम

डेविड वार्नर ने खेल भावना की ऐसी मिसाल दी जिसे आने वाले पीढ़ियों के बल्लेबाज़ों को ध्यान में रखना चाहिए।

गुरुवार को दिल्ली कैपिटल्स और सनराइजर्स हैदराबाद के बीच मुंबई के ब्रेबोर्न स्टेडियम में IPL 2022 का 50वां मैच खेला गया जिसे दिल्ली कैपिटल्स से 21 रन से अपने नाम किया। इस मैच में दिल्ली के बल्लेबाज़ों की शानदार बैटिंग देखने को मिली देसी विदेशी सभी बल्लेबाज़ों ने जमकर रन बनाए। लेकिन इस बीच डेविड वार्नर ने खेल भावना की ऐसी मिसाल दी जिसे आने वाले पीढ़ियों के बल्लेबाज़ों को ध्यान में रखना चाहिए। 
1651824338 untitled(1)
इस मैच में दिल्ली ने पहले बल्लेबाज़ी की और ओपनिंग करने आए डेविड वार्नर पारी खत्म होने तक क्रीज में खड़े रहे। उन्होंने अपनी एक्स टीम हैदराबाद के खिलाफ 12 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 58 बॉल में नाबाद 92 बनाए। हो सकता है ये आंकड़े सुन कर आपको वार्नर के लिए बुरा लगे क्योंकि वो महज़ 8 रन से शतक बनाने से चूक गए।  लेकिन आपको निराश होने की जरुरत नहीं है और आप रोवमैन पॉवेल की वो बात सुन लीजिए जो वार्नर ने उनसे आखरी ओवर में कही। 
1651824405 untitled(2)
पॉवेल ने मैच खत्म होने के बाद आखिर ओवर को लेकर वॉर्नर से बातचीत के बारे में कहा, ‘आखिरी ओवर के शुरू में मैंने उनसे कहा कि क्या आप चाहते हो कि मैं एक रन लूं जिससे आप सेंचुरी पूरी कर सको। तो उन्होंने कहा, सुनो क्रिकेट ऐसे नहीं खेला जाता है। आपको अधिक से अधिक लंबे शॉट खेलने की कोशिश करनी चाहिए और मैंने ऐसा किया। वह अपनी सेंचुरी के लिए बिल्कुल भी परेशान नहीं थे।’ वार्नर की ये लाइन क्रिकेट जगत का सबसे बड़ा ज्ञान है क्रिकेट महान खेल इसी लिए हैं क्योंकि क्रिकेट में अपने निजी माइलस्टोन के बारे में नहीं सोचते हुए खिलाडी टीम के लिए सोचते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − thirteen =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।