IPL मैचों में कटौती मात्र एक विकल्प, किसी को नहीं पता कब शुरू होगा टूर्नामेंट : टीम मालिक

बीसीसीआई ने सरकार की यात्रा पाबंदियों और तीन राज्यों के मैचों की मेजबानी करने से इन्कार करने के बाद शुक्रवार को आईपीएल को 29 मार्च से 15 अप्रैल तक निलंबित कर दिया।

बीसीसीआई और आईपीएल की आठ फ्रेंचाइजी टीमों के मालिकों के बीच शनिवार को यहां हुई बैठक में इंडियन प्रीमियर लीग के मैचों में कटौती पर चर्चा की गयी जबकि किंग्स इलेवन पंजाब के मालिक नेस वाडिया ने कहा कि कोविड-19 महामारी को देखते हुए वह नहीं जानते कि यह टी20 टूर्नामेंट कब शुरू होगा। 
बीसीसीआई ने सरकार की यात्रा पाबंदियों और तीन राज्यों के मैचों की मेजबानी करने से इन्कार करने के बाद शुक्रवार को आईपीएल को 29 मार्च से 15 अप्रैल तक निलंबित कर दिया। बोर्ड ने इसके साथ ही दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एकदिवसीय श्रृंखला भी रद्द कर दी थी। 
वाडिया ने आईपीएल मालिकों की बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली और सचिव जय शाह के साथ बैठक के बाद पत्रकारों से कहा, ‘‘हम या कोई भी आज यह बताने की स्थिति में नहीं है कि यह टूर्नामेंट कब शुरू होगा। हम दो या तीन सप्ताह के बाद स्थिति की समीक्षा की करेंगे। उम्मीद है कि तब तक मामलों में कमी आ जाएगी।’’ बोर्ड सूत्रों ने हालांकि बताया कि बैठक में विभिन्न विकल्पों पर चर्चा की गयी। 
बीसीसीआई सूत्र ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘‘टीम मालिकों और बीसीसीआई के बीच बैठक के दौरान छह से सात विकल्पों पर चर्चा की गयी जिनमें आईपीएल मैचों में कटौती करना भी शामिल था।’’ वाडिया ने स्पष्ट किया कि वर्तमान में स्वास्थ्य संबंधी उपाय करना प्राथमिकता है। 
भारत में कोरोना वायरस के कारण अभी तक दो व्यक्तियों की मौत हो चुकी है जबकि 80 से अधिक लोग संक्रमित पाये गये। इसके बाद सरकार ने भीड़ से बचने के लिये खेल प्रतियोगिताओं को दर्शकों के लिये बंद करने के निर्देश दिये। सूत्र ने बताया, ‘‘अभी दूसरा विकल्प टीमों को दो ग्रुप में बांटना है जिसमें प्रत्येक टीम में चार चार टीमें होंगी और इसके बाद चोटी पर रहने वाली चार टीमें प्लेऑफ में पहुंचेगी। तीसरा विकल्प (सप्ताहांत के अलावा) अन्य दिनों में भी दो . दो मैच करवाना है।’’ 
चौथा विकल्प सभी मैचों का आयोजन केवल दो केंद्रों पर करना तथा खिलाड़ियों, सहयोगी स्टाफ और टीवी प्रसारण टीम के सदस्यों की आवाजाही को सीमित करना है। एक अन्य विकल्प खाली स्टेडियमों में कम समय के अंदर सभी 60 मैचों का आयोजन करना है ताकि हितधारकों को अधिक नुकसान न हो। 
सूत्रों ने इसके साथ ही पुष्टि की कि बैठक में टूर्नामेंट को विदेश में आयोजित करने पर चर्चा नहीं की गयी। कोविड-19 के कारण विश्व भर में 5000 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। वाडिया ने कहा, ‘‘बीसीसीआई, आईपीएल और (आधिकारिक प्रसारक) स्टार (स्पोर्ट्स) ने स्पष्ट किया कि हम वित्तीय नुकसान के बारे में नहीं सोच रहे हैं। ’’ 
उन्होंने कहा, ‘‘बैठक में सभी इस पर सहमत थे कि इंसान पहले आता है और वित्तीय मामले बाद में। हम यहां सरकार के दिशानिर्देशों का पालन करेंगे। मुझे नहीं लगता कि इस महीने के अंत तक कोई फैसला किया जाएगा। हमें देखो और इंतजार करो की नीति अपनानी होगी और उम्मीद है कि स्थिति में सुधार होगा। ’’ 
वाडिया ने कहा, ‘‘जब तक स्पष्टता नहीं हो तब तक कोई फैसला नहीं किया जा सकता है। दो तीन सप्ताह में ही कुछ स्पष्ट हो पाएगा। जहां तक विदेशी खिलाड़ियों के आने की बात है तो मैं नहीं जानता। अभी 15 अप्रैल तक प्रतिबंध है और उसके बाद हम देखेंगे। अगर आईपीएल होता है तो यह बहुत अच्छी बात है, अगर ऐसा नहीं होता तो ठीक है।’’ दिल्ली कैपिटल्स के मालिक पार्थ जिंदल ने विकल्पों पर चर्चा को अधिक तवज्जो नहीं देने की कोशिश की और कहा कि अन्य तरीकों पर चर्चा करने के लिये एक और बैठक होगी। 
जिंदल ने कहा, ‘‘चीजें आगे बढ़ने के साथ बीसीसीआई सभी विकल्पों पर चर्चा करने के लिये एक और बैठक बुलाएगा।आज की बैठक इस बात के लिये थी कि वे स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। हम भी ऐसा कर रहे हैं और हम सही समय पर फैसला करेंगे। ’’ जिंदल से पूछा गया कि क्या सत्र में अधिक दिनों में दो मैचों का आयोजन किया जाएगा, उन्होंने कहा, ‘‘हमने किसी चीज पर चर्चा नहीं की। हमें स्थिति का आकलन करना होगा तथा लोगों का स्वास्थ्य सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। एक बार स्थिति नियंत्रण में आने के बाद सभी विकल्पों पर चर्चा हो सकती है। ’’ 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven + twelve =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।