राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने चंद्रशेखर विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन का किया ऑनलाइन शिलान्यास

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने बलिया में जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन का ऑनलाइन शिलान्यास किया।

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने बुधवार को बलिया में जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय के प्रशासनिक भवन का ऑनलाइन शिलान्यास किया। इस अवसर पर उन्होंने नई शिक्षा नीति का उल्लेख करते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति प्रत्येक विद्यार्थी को स्वतंत्र रूप से खुले आसमान में उड़ने की आजादी देती है। 
प्रदेश सरकार, प्रधानमंत्री के कुशल नेतृत्व में इसे चरणबद्ध रूप में लागू करने के लिए प्रतिबद्ध है। मुझे उम्मीद है कि यह युवा पीढ़ी को 21वीं सदी की चुनौतियों का सामना करने के लिए सक्षम बनाएगी। बलिया की समृद्ध साहित्यिक, सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक परंपरा को याद करते हुए पटेल ने कहा कि यह धरती प्रणम्य है। मुझे उम्मीद है कि यह विश्वविद्यालय बलिया की समृद्ध विरासत को सुरक्षित व संरक्षित करते हुए आगे बढ़गा।
 उन्होंने विश्वविद्यालय में भवन निर्माण के लिए प्रदेश सरकार और विशेष रूप से उप मुख्यमंत्री प्रो दिनेश शर्मा के प्रयासों की सराहना की। राज्यपाल ने कहा कि अब विश्वविद्यालय का दायित्व है कि वह भवन निर्माण की गुणवत्ता सुनिश्चित करे और यह प्रयास करे कि भवन निर्माण का कार्य निर्धारित समय में पूरा हो। परिसर को इकोफ्रेंडली बनाने के लिए अभी से पौधरोपण का कार्य प्रारंभ करने की जरूरत है। उन्होंने शिक्षकों से अपील की कि वे विद्यार्थियों को ऐसा प्रशिक्षण दें कि अध्ययन के साथ वे आत्मनिर्भर होने की ओर उन्मुख हों।
इससे पूर्व मुख्य अतिथि उप मुख्यमंत्री एवं उच्च शिक्षा मंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि इस ऐतिहासिक भूमि पर प्रशासनिक भवन का लोकार्पण होना मेरे लिए सुखद है। वर्तमान सरकार का यह प्रयास है कि शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़या जाए और इसमें आने वाली रुकावटों को प्रशासनिक स्तर पर दूर किया जाए। विश्वविद्यालय रोजगार परक पाठ्यक्रम के द्वारा आय अर्जित कर रहे हैं और आर्थिक रूप से अपने को मजबूत बना रहे हैं।
उन्होंने कहा कि इस दिशा में जननायक चंद्रशेखर विश्वविद्यालय को भी प्रयत्न करने की आवश्यकता है। शासन की ओर से विश्वविद्यालय परिसर में जलभराव की समस्या के स्थायी समाधान के लिए जिला प्रशासन को आवश्यक दिशा-निर्देश दे दिए गए हैं। संबंधित विभागों ने समन्वय स्थापित करते हुए एक कार्ययोजना भी बना ली है, जिसका सुखद परिणाम अगले कुछ महीनों में देखने को मिलेगा।
विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो कल्पलता पांडेय ने विश्वविद्यालय की अब तक की प्रगति का उल्लेख करते हुए सरकार और राज्यपाल द्वारा दिये जा रहे सहयोग के प्रति आभार प्रकट किया। कहा कि कम संसाधन के बावजूद यह विश्वविद्यालय निरन्तर विकास कर रहा है। यहां जलपान गृह बन चुका है। छात्राओं के लिए एससी-एसटी गर्ल्स छात्रावास का निर्माण शुरू हो चुका है। स्टेट बैंक की शाखा भी बहुत जल्द खुलने वाली है।
उन्होंने कहा कि निर्माणाधीन प्रशासनिक भवन को जून, 2022 तक हैंड ओवर करने का विश्वास कार्यदायी संस्था ने दिलाया है। रूरल डेवलपमेंट सेंटर खोलने के लिए राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय समस्तीपुर बिहार के साथ एमओयू हो चुका है। उन्होंने कहा कि शिक्षण-प्रशिक्षण के क्षेत्र में सेंटर ऑफ एक्सीलेंस विश्वविद्यालय को सरकार ने प्रदान किया है, जो हम सबके लिए गर्व की बात है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

16 + nine =

पंजाब केसरी एक हिंदी भाषा का समाचार पत्र है जो भारत में पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और दिल्ली के कई केंद्रों से प्रकाशित होता है।